DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छेड़छाड़ मत कीजिये, पटरी पर है विकास की गाड़ी: नीतीश

किशनगंज/कटिहार/अररिया/ मधेपुरा। हिन्दुस्तान टीम

बर्बाद बिहार में पिछले पांच साल में तेजी से काम शुरू हो गया है। पटरी बिछ गयी है और विकास की गाड़ी चलने लगी है। यदि आप चाहते हैं कि बिहार तरक्की के रास्ते पर आगे बढ़ता रहे तो बीच में छेड़छाड़ मत कीजिये। अगर गाड़ी पटरी से उतर गई, तो न जाने कितने साल बाद पटरी पर आ पाएगी। ये बातें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को किशनगंज के ठाकुरगंज, बहादुरगंज व कोचाधामन, कटिहार के मनिहारी एवं बरारी तथा अररिया के जोकीहाट विधानसभा क्षेत्रों में आयोजित सभाओं में मतदाताओं को संबोधित करते हुए कही। वहीं अररिया की चुनावी सभा में लालू पर चुटकी लेते हुए कहा कि मेरे पैरों में घुंघरू बांध दो और मेरी चाल.. देख ले। इससे पहले मुख्यमंत्री श्री कुमार ने कहा कि मुङो पक्का विश्वास है कि जिसने एक बार उजाला देख लिया वह अंधेरे में जाना नहीं चाहेगा। हमने बिहार में सबको जोड़ा, किसी को छोड़ा नहीं। उसी तरह आप भी एकजुट होकर काम करने वाली सरकार को तेजी से काम करने का मौका दीजिये। श्री कुमार ने कहा कि हमने उस परिस्थिति में काम शुरू किया जब लोग मान बैठे थे कि यहां कुछ होना नहीं है। डराया गया था कि जदयू के साथ भाजपा है। अल्पसंख्यक वर्ग के लोगों की अनदेखी होगी। सबको झुठलाते हुए आगे बढ़े और बिहार में अमन-चैन कायम किया। उन्होंने लोगों से कहा कि याद कीजिये पांच साल पहले दिन में घर से यदि पति, बेटा निकलता था और शाम तक नहीं लौटता था तो पत्नी को चिंता होती थी। आज कोई परवाह नहीं है। जिस समय जरूरत पड़ी उस समय घर से निकलने में कोई संकोच नहीं। पांच साल पहले मन में डर समाया था, आज बदलाव यह है कि मन से डर निकल गया। अमन चैन, भाईचारा, विभिन्न जातियों के बीच में, हिंदू मुस्लिम के बीच में किसी प्रकार का झंझट नहीं। ये माहौल बदला, ये मामूली बदलाव नहीं है। जितना बन पड़ा, सब किया। स्कूल, अस्पताल, सड़क सब जगह बदलाव हुआ है। अब तो बाहरी लोग इंतजार कर रहे हैं कि दुबारा सरकार बने तो पूंजी लगाएं। अगली बार मौका मिला तो जो काम बचा है वह तो पूरा होगा। एकमुश्त पूंजी आएगी। कल-कारखाने खुलेंगे। शुरुआत हो गई है। अभी लोग सोच रहे हैं कि पांच साल पूरा होने वाला है, न जाने क्या होगा। बिहार की जनता ने यदि काम करने का मौका दिया तो अगले पांच सालों में यहां पूंजी का निवेश इतना होगा कि लोगों को बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। मुख्यमंत्री श्री कुमार ने ठाकुरगंज विधानसभा क्षेत्र के पौआखाली में जदयू प्रत्याशी गोपाल अग्रवाल, बहादुरगंज के मेला मैदान में जदयू प्रत्याशी मुसब्बिर आलम व कोचाधामन विधानसभा के जदयू प्रत्याशी मुजाहिद आलम को जिताने की अपील की।कटिहार में मनिहारी विस क्षेत्र के अमदाबाद एवं बरारी विस क्षेत्र में आयोजित चुनावी सभाओं में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि नाराज होने की जरूरत नहीं है, देर आएंगे लेकिन दुरुस्त आएंगे। उन्होंने कहा कि स्पीडी ट्रायल के माध्यम से पांच साल में 50 हजार अपराधी जेल में है। अब अपराधी शस्त्रों का प्रदर्शन नहीं करते। विदेशियों का विश्वास बिहार के प्रति बढ़ा है। अब बिहारी कहलाना अपमान नहीं सम्मान की बात है। अपने कार्यकाल की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा स्कूलों में साइकिल योजना के फलस्वरूप छात्राओं की संख्या में तीन गुना वृद्वि हुई है। अब छात्राएं पढ़ने के लिए विद्यालय आती हैं। पांच साल में कोई दंगा तथा नरसंहार नहीं हुए है। परिवर्तन स्पष्ट रूप से दिख रहा है, अत: एक मौका और मांगने आया हूं।अररिया के जोकीहाट में आयोजित सभा में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने भागलपुर दंगे की चर्चा करते हुए कहा कि कांग्रेस राज में दंगा हुआ और लालू ने दंगाइयों को सजा न दिलाकर उसे सम्मानित किया। हमने ऐसे दंगाइयों को चिह्न्ति कर 29 मामलों को खुलवाया और सजा भी दिलवायी। बिहार की मिट्टी की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि यहां की आबोहवा व मिट्टी काफी अच्छी है। यहां के बच्चों सभी परीक्षाओं में बिहार का नाम रौशन करते हैं। बिहार के लोग ही हमारी पूंजी हैं। लालू पर चुटकी लेते हुए श्री कुमार ने कहा कि कुछ लोग कहते हैं मेरे पैरों में घुंघरू बांध दो और मेरी चाल.. लेकिन राजनीति बड़ी गंभीर चीज होती है और घुंघरू बांधने वालों की जगह कहीं और है। आत्मविश्वास से भरे मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार बनना तय है और सरकार बनने पर बिहार में कल-कारखानों का जाल बिछेगा। अब हम अंधेरे में नही लौटेंगे, हमने उजाला देख लिया और बिहार को विकसित सूबा बनाकर ही दम लेंगे। उनके साथ राज्यसभा सांसद अली अनवर व जदयू प्रवक्ता व विधान पार्षद संजय सिंह भी थे। मधेपुरा के कुमारखंड की चुनावी सभा में मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में अब लाठी की नहीं कलम की जरूरत है। बिहार की राजग सरकार पिछले पांच वर्षो में कलम में स्याही भरने का काम किया है। बिहार में विकास की गाड़ी अब पटरी पर आ गयी है। जरूरत है इसे तेज रफ्तार से चलाने की और इसके लिए कम से कम एक पंचवर्षीय सत्ता की और जरूरत है। उन्होंने कहा कि अपने शासनकाल में उन्होंने किसी का साथ नहीं छोड़ा। दलित, महादलित, अल्पसंख्यक, अगड़ी, पिछड़ी सभी जाति को जोड़ने का काम किया। उन्होंने कहा कि बाढ़ के बाद कोसी को नया स्वरूप देना चाहते थे। लेकिन केंद्र द्वारा पैसा नहीं दिया गया। जिससे ससमय कार्य पूरा नहीं हो सका। विश्व बैंक से कर्ज लेकर नया कोसी बनाने के लिए प्रयासरत है।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छेड़छाड़ मत कीजिये, पटरी पर है विकास की गाड़ी: नीतीश