DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बदहाली का आलम है बिहार के जेलों में

बिहार के जेलों में भोजन के बजट में भारी कटौती की जा रही है। जब कैदी विरोध करते हैं तो उन्हें सेलों में डालकर प्रताडिम्त किया जाता है। महिलाओं के साथ तो अभद्र व्यवहार किया जाता है। जेलों में कैदियों को बीमार पड़ने की स्थिति में चिकित्सा की कोई सुविधा नहीं है।

डॉक्टरों के कई पद खाली पड़े हैं। इलाज हो भी जाए तो दवाइयां नहीं मिल पाती है। गंदगी का आलम यह है कि मच्छर रात में ही नहीं दिन में भी जमे हैं। यह चौंकाने वाला ही है कि अब-तक कोई महामारी नहीं फैली है। बिहार के सभी कैदियों से राजनीतिक बंदी रिहाई समिति ने बिहार के जेलो में बदहाली के खिलाफ आह्वान किया है कि 13 सितंबर को भूख हड़ताल रखी जाए। समिति के संयोजक रामाधार सिंह ने कहा कि जेल में भी मानवाधिकार की रक्षा होनी चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:बदहाली का आलम है बिहार के जेलों में