DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ैसमाज में बदलाव लाने का काम हमेशा दलितों ने किया

संवाद सूत्रपटना। आज के युवाओं को अपने इतिहास के बारे में जानना और समझना होगा। नई धारणाओं से अवगत होकर ही स्थिति में बदलाव लाया जा सकता है। ये बातें बुधवार को दरभंगा हाउस में इतिहास विभाग के 9वें रिफ्रेशर कोर्स के उद्घाटन समारोह में पूर्व विभागाध्यक्ष प्रो. सुरेन्द्र गोपाल ने कही। उन्होंने कहा कि युवाओं को गंभीरता से काम करने की जरूरत है। रिफ्रेशर कोर्स का विषय बहिष्करण एवं प्रतिरोध रखा गया था। पटना विश्वविद्यालय के कुलपति ने कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए कहा कि समाज में परिवर्तन लाने का काम हमेशा दलितों ने किया है। उच्च वर्गों ने समाज में बदलाव का काम नहीं किया है। इसका इतिहास गवाह है। विभागाध्यक्ष डा. भारती एस कुमार ने बहिष्करण तथा प्रतिरोध की व्याख्या करते हुए बताया कि नए रिसर्च के जरिए कई बहिष्कृत समूहों को चिन्हित किया गया है। एएन सिन्हा समाज अध्ययन संस्थान के निदेशक डा. डीएम दिवाकर ने कहा कि यह ऐतिहासिक सत्य है कि जब बहिष्करण होगा, प्रतिरोध अवश्यंभावी है। उन्होंने कहा कि भूत काल में कई स्तर के प्रतिरोध देखने को मिले हैं। इतिहास आमजनों की भाषा है। डा. अमरनाथ सिंह ने बताया कि इस रिफ्रेशर कोर्स में कई राज्यों के शिक्षक भाग ले रहे हैं। इस मौके पर डा. ग़फ्फर सिद्दीकी, डा. डेजी नारायण, डा. डीएन झा, प्रो. बहादुर वर्मा, डा. प्रेम कुमार आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ैसमाज में बदलाव लाने का काम हमेशा दलितों ने किया