DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हज यात्राा को और सुगम बनाए केंद्र:पर्सनल लॉ बोर्ड -निजी एयरलाइंस

प्रमुख संवाददाता लखनऊ। ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने माँग की है कि केंद्र सरकार और केंद्रीय हज कमेटी मिलकर हजयात्राा को और सुगम बनाएँ। बोर्ड ने सलाह दी कि हज यात्रियों को लाने-ले जाने के लिए सिर्फ एयर इंडिया पर निर्भर रहने के बजाय सभी निजी एयरलाइंस कम्पनियों के बीच टेंडर आमंत्रित किए जाएँ और जिस कम्पनी की बोली सबसे कम हो उसे ठेका दिया जाए। बोर्ड की कार्यकारिणी के सदस्य और नाएब इमाम ईदगाह मौलाना खालिद रशीद मियाँ फरंगीमहली व डॉ. कासिम रसूल इलियास ने ‘हिन्दुस्तान’ से बातचीत में कहा कि हर साल भारत से एक लाख चालीस हजार से अधिक हजयात्राी हज पर जाते हैं। निजी एयरलाइंस के बीच अगर प्रतिस्पर्धात्मक टेण्डर की प्रक्रिया अपनाई जाती है तो इससे केंद्र को हजयात्राा पर दी जाने वाली सब्सिडी भी कम खर्च करनी पड़ेगी। इससे सफर का खर्च भी कम होगा और बेहतर सहूलियत मिलेगी। बोर्ड के इन दोनों कार्यकारिणी सदस्यों ने कहा कि अभी केन्द्रीय हज कमेटी मक्का-मदीना में ठहराने के लिए काफी ज्यादा पैसा खर्च करती है लेकिन बेहतर इंतजाम भी मुहैया नहीं हो पाते। बोर्ड ने हर साल जाने वाले सरकारी हज प्रतिनिधिमंडल के औचित्य पर भी सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि जिम्मेदारों को समीक्षा करनी चाहिए कि ऐसे मंडल से क्या हासिल होता है। मौलाना खालिद रशीद मियाँ फरंगीमहली ने कहा है कि केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्रालय, विदेश मंत्रालय और केन्द्रीय हज कमेटी को हज सब्सिडी के मुद्दे पर भी काफी सतर्कता बरतनी होगी वरना यह मुद्दा एक बार फिर सियासी रंग ले सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हज यात्राा को और सुगम बनाए केंद्र:पर्सनल लॉ बोर्ड -निजी एयरलाइंस