DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

(((विशेष ध्यानार्थ आगरा/कानपुर))) अपहृत बैंक मैनेजर मुक्त पाँच अपहर्ता गिरफ्तार

विशेष संवाददातालखनऊएसटीएफ ने मैनपुरी से पाँच दिन पहले अपहृत स्टेट बैंक आफ इंडिया के मैनेजर शहजादे सिंह शंखवार को कन्नौज के थाना सौरिख इलाके में सोमवार को सकुशल बरामद कर लिया। साथ ही पाँच अपहर्ताओं प्रमोद कुमार यादव, मनोज कुमार यादव, राधे किशन, ग्राम प्रधान राकेश यादव और मनोज की पत्नी विनीता को गिरफ्तार किया है। अपहृत मैनेजर को एक राजनीतिक दल से ताल्लुक रखने वाले ग्राम प्रधान के भाई प्रमोद के घर छिपा कर रखा गया था। मैनेजर को मुक्त करने के लिए 30 लाख रुपये की फिरौती माँगी जा रही थी।एसटीएफ के एसएसपी नवीन अरोड़ा ने बताया कि 1 अप्रैल को एसबीआई की सरसई शाखा जिला इटावा के मैनेजर शहजादे सिंह का घर लौटते वक्त मारुति कार सवार बदमाशों ने मैनपुरी के कुर्रा थाना क्षेत्र में अपहरण कर लिया था। इसकी जाँच एसटीएफ के सुपुर्द की गई थी। सर्विलांस में पता चला कि बदमाश कन्नौज के थाना क्षेत्र सौरिख में छिपे हैं।एसटीएफ ने पहले मैनपुरी के रैचंदा गाँव से अभियुक्त राधे किशन को गिरफ्तार किया। इसी गाँव में राधे के ट्यूबवेल में बैंक मैनेजर को छिपा कर रखा गया था। राधे से पूछताछ में पता चला कि शहजादे के अपहरण में कन्नौज के सौरिख थाना क्षेत्र के रसूलपुर निवासी चंद्रपाल उर्फ टिल्लू और बबलू भी शामिल थे। उन्हें राधे की निशानदेही पर गिरफ्तार कर लिया गया। बबलू ने कबूला कि उसने ही मारुति वैन की व्यवस्था की थी। साथ ही प्रमोद और मनोज के घर भी मैनेजर को रखा गया था। प्रमोद के भाई ग्राम प्रधान राकेश यादव को इस अपहरण की पूरी जानकारी थी। राकेश एक राजनीतिक दल का करीबी है।अपहरण के बाद चंद्रपाल और बबलू ने ही मोटरसाइकिल से मैनेजर को पहले कन्नौज के थाना सौरिख के नगला बिशुना गाँव पहुँचाया था। एडीजी एसटीएफ बृजलाल ने बताया कि मनोज कुमार वर्ष 2002 में हत्या के आरोप में जेल गया था। राधे के पिता पुलिस मुठभेड़ में मारे गए थे। एसटीएफ इस गैंग में शामिल अन्य अभियुक्तों की तलाश कर रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: (((विशेष ध्यानार्थ आगरा/कानपुर))) अपहृत बैंक मैनेजर मुक्त पाँच अपहर्ता गिरफ्तार