DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कब रुकेगी अवैध सिलेण्डरों की रीफिलिंग मेरठ व गाजियाबाद से आ

िहन्दुस्तान संवाद, लखनऊरसोई गैस की अवैध-रीिफिलंग और पाँच व तीन किलो के अवैध छोटे िसलेण्डरों की िबक्री पर रोक नहीं लग पा रही है। छोटे िसलेंडरों के फटने से अक्सर दुर्घटनाएँ सुनाई पड़ती हैं लेकिनजिंम्मेदार िवभाग एक-दूसरे को दोषी बता कोई कार्रवाई नहीं करते। मेरठ व गािजयाबाद से बड़े पैमाने पर राजधानी में अवैध छोटे िसलेण्डर मँगाए जा रहे हैं। डालीगंज, अमीनाबाद, कैसरबाग, गणेशगंज, वजीरगंज, नरही, िनशातगंज, आलमबाग, बादशाहनगर समेत कई इलाकों में छोटे िसलेण्डरों की िबक्री व अवैध रीिफिलंग हो रही है। इन िसलेण्डरों का सबसे बड़ा बाजार नाका िहण्डोला माना जाता है। कोतवाली हसनगंज के िनकट खुलेआम छोटे िसलेण्डर बेचे जाते हैं। यहाँ अवैध रीफिलंग भी होती है। नाका में कोतवाली के बगल एपी इलेक्ट्रािनक के नाम से दुकान है। यहाँ भी छोटे िसलेण्डर िबकते हैं। राजाजीपुरम ई-ब्लाक िस्थत एसके किचन स्टोर एवं आजाद स्टोर व लाइट हाउस के यहाँ भी छोटे िसलेण्डर देखे गए। कंचना िवहारी मार्ग, िनकट राधे एजेंसी िस्थत जयसवाल जनरल स्टोर पर छोटे िसलेण्डर खुलेआम भरे जा रहे हैं। दुकानदार खुलेआम 25 रुपए किलो वाली गैस 45 से 50 रुपए किलो तक बेच रहे हैं। अफसर बोले---अवैध िसलेण्डरों की िबक्री व अवैध रीिफिलंग रोकने कीजिंम्मेदारीजिंला प्रशासन की है। इसमेंहम लोग कुछ नहीं कर सकते हैं। वाई श्रीवास्तव इिंडयन ऑयल के मुख्य प्रबंधक (सेल्स) अवैध िबक्री या रीिफिलंग पुिलस औरजिंला प्रशासन रोके। हमारी कंपनी की एजेिंसयों व गोदामों पर किसी प्रकार की गड़बिड़याँ िमली तो कार्रवाई होगी। संदीप गोिवलभारत गैस के एिरया मैनेजर हम लोगों कीजिंम्मेदारी अपनी कंपनी के कॉमिर्शयल, घरेलू तथा छोटे पाँच किलो के िसलेण्डरों की है। जो आईएसआई मार्क हैं। इनके बकायदा कनेक्शन िदए जाते हैं। अवैध िरिफिलंग वालों के िखलाफ समय-समय पर कार्रवाई की जाती है। आरके ितवारी िहन्दुस्तान ऑयल कंपनी के रीजनल मैनेजरहमारीजिंम्मेदारी है कि गैस की आपूíत मानक के मुतािबक की जाए। अवैध रीिफिलंग व छोटे िसलेण्डरों पर कार्रवाई काजिंम्माजिंला आपूíत कार्यालय की है। राम चंद्रबाँट-माप िवभाग के िनयंत्रक िपछले महीने हमने ऑयल कंपिनयों के अिधकािरयों व इनके डीलरों की बड़े पैमाने पर एक बैठक की थी। इसमें सुझाव िदया गया था कि कंपिनयों की ओर से िमलने वाले पाँच किलो के िसलेण्डर के िलए राशन कार्ड, छात्रों के िलए उनके कॉलेज व महािवद्यालयों के प्राचार्यो का सत्यापन और कंपनी में कार्यरत मजदूरों के िलए िडप्टी लेबर किमश्नर के प्रमाण पत्र कनेक्शन िदए जाएँ। इससे कंपिनयों का राजस्व भी बढ़ेगा और अवैध िसलेण्डरों की िबक्री पर रोक भी लगेगी। उन्होंने कहा कि जब लोग 25 रुपए किलो गैस पाएँगे तो क्यों कि 50 रुपए किलो खरीदेंगे। ऑयल कंपिनयाँ कार्रवाई करेंजिंला आपूíत कार्यालय हमेशा तैयार है। एसके िसंहअपरजिंलािधकारी(आपूíत) ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कब रुकेगी अवैध सिलेण्डरों की रीफिलिंग मेरठ व गाजियाबाद से आ