DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निगम के सीमेंट जा रहा था निजी फैक्ट्री में विजिलेंस ने

कार्यालय संवाददाताचंडीगढ़। विजिलेंस विभाग ने एक मनीमाजरा से सरकारी सीमेंट की 200 बोरियां ले जा रहा एक ट्रक को पकड़कर दो लोगों को गिरफ्तार किया है। सीमेंट को बरवाला ले जाया जा रहा था जहां इसे निजी काम में लगाना था। सेक्टर-17 के नगर-निगम गोदाम से ट्रक में सीमेंट भरी गई थी। ठेकेदार अभी फरार हैं। सूत्रों का कहना है कि सरकारी सीमेंट के इस गोलमाल में कुछ सरकारी कर्मचारी भी शामिल हैं और कुछ कर्मचारियों से पूछताछ भी चल रही है। मामले में कई अधिकारी और कर्मचारियों के फंसने की संभावना है। ऐसे आया पकड़ में शनिवार की रात को ही विजिलेंस को सूचना मिल गई थी कि कुछ लोग निगम की सीमेंट को निजी कार्यो में लगाने के लिए इसे ट्रक में भरकर शहर से कहीं बाहर ले जाएंगे। यह सूचना मिलने के बाद एसपी मधुर वर्मा के नेतृत्व में इंस्पेक्टर दलीप सिंह और सरकारी कर्मचारियों की टीम बनाई गई। पुलिस टीम ने वीरवार को मनीमाजरा में फन रिपब्लिक के पास नाका लगाया और ट्रक को पकड़ लिया। पुलिस ने ट्रक की बरामदगी के साथ ही उसके चालक हविंदर सिंह को गिरफ्तार किया गया है। उसकी निशानदेही पर ठेकेदार के पिता जवाहर जिंदल को बरवाला से गिरफ्तार किया गया। इसे बाद चौकीदार छेदी लाल को भी काबू हो गया। सेक्टर-9 स्थित विजिलेंस थाने में मामला दर्ज किया गया है। मामला आईपीसी की धाराओं 409/420/120बी के साथ पीसी एक्ट-1988 के तहत मामला दर्ज किया गया है। सेक्टर-17 गोदाम से चला था ट्रक : यह ट्रक सेक्टर-17 स्थित नगर निगम के गोदाम से चला था। इस निजी में बोरियां भरी हुई थी। जांच में पाया गया कि श्री अल्ट्रा रेड आक्सिड मार्का, सरकारी सीमेंट की दो सौ बोरियां यहां से निकाली गई थी। सरकारी कर्मचारी भी मिले हुए हैं :इस काम में ठेकेदार हर्षवर्धन के साथ ही सरकारी कर्मचारी भी मिले हुए हैं। अभी तक जूनियर इंजीनियर राज कुमार, मुंशी ठाकुर और चौकीदार छेदी लाल का नाम सामने आ रहा है। छेदी को छोड़ सभी फरार हैं। निजी काम में लगना था निगम का सीमेंट :विजिलेंस के अनुसार यह ट्रक बरवाला तहसील के सुंदरपुर गांव जा रहा था। यहां यहां ठेकेदार के पिता के नाम सर्व प्रिया बिल्डिंग प्रोडक्टस नाम से फर्म है। इस फर्म में टाइल्स, सीमेंट ब्लाक्स आदि बनते हैं।तो पहले भी जा चुका है सीमेंट ?पुलिस सूत्रों का कहना है कि सीमेंट की हेराफेरी पहले भी हुई है। हालांकि विजिलेंस के अधिकारी इस विषय में कुछ भी बताने को तैयार नहीं है। उनका कहना है कि अभी जांच चल रही है। इसलिए इस वक्त कुछ भी कहना मुनासिब नहीं होगा। जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। आप भी कर सकते हैं फोन :विजिलेंस ने आम जनता से अपील की है कि वह भ्रष्ट लोगों को पकड़वाने में उसकी मदद करें। यदि किसी पास इस तरह के भ्रष्टाचार की सूचना है तो वह सीधे विजिलेंस को निम्न नंबरों पर सूचित कर सकता है। राम निवास, चीफ विजिलेंस आफिसर- 0172-2743410 मधुर वर्मा, एसपी विजिलेंस- 0172-2740735प्रमोद कुमार, डीएसपी विजिलेंस- 0172-2740012‘यह गंभीर मसला है। गुप्त सूचना के बाद बरामदगी और गिरफ्तारियां हुई हैं। सभी आरोपी जल्द पकड़ लिए जाएंगे। मामले की जांच चल रही है आगे और भी भेद खुल सकते हैं।’मधुर वर्मा, एसपी विजिलेंस ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: निगम के सीमेंट जा रहा था निजी फैक्ट्री में विजिलेंस ने