DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

हमें हमारी पत्नियों से बचाओ

इंट्रो : पत्नी पीडिम्त पुरुषों ने चंडीगढ़ में निकाली कार रैली, दहेज प्रताड़ना कानून में बदलाव की मांग कीप्वाइंटर : वूमेन पुलिस सेल बंद करने की मांग कहा, पत्नी पीडिम्त पुरूषों की नहीं होती सुनवाईप्रमुख संवाददाता चंडीगढ़सोहणी सिटी में रविवार को एक अनोखी कार रैली निकली। ये रैली निकाली थी अपनी पत्नियों से परेशान पतियों की। 50 से ज्यादा कारों में सवार लोग मोहाली और पंचकूला से होते हुए चंडीगढ़ की सड़कों पर निकलकर खुद को पत्नियों की प्रताड़ना से बचाने के लिए सरकार से कानून बदलने की मांग कर रहे थे। उनके हाथ में तख्तियां थी कि सरकार वूमेन पुलिस सेल को बंद करें। घरेलू हिंसा कानून और भारतीय दंड संहिता में उन प्रावधानों को खत्म करने की मांग की गई है जो कि पुरुषों के खिलाफ है। सेव इंडिया फैमिली फाउंडेशन के संयोजक मनदीप पुरी ने कहा है कि उनके भाई लखविंदर सिंह से एक महिला ने पहचान बदलकर शादी की। उसकी दो शादियां पहले ही हो चुकी थीं। जब पता लगा तो उत्तरप्रदेश में जाकर उनके भाई पर दहेज प्रताड़ना का केस कर दिया है वे कई सालों से परेशान हैं। भत्ता चाहिए तो ले लो किडनीगौरव सैनी की पत्नी ने उनसे इतना गुजारा भत्ता मांग लिया कि उन्होंने कोर्ट में अपनी किडनी बेचने की अनुमति देने की पेशकश कर दी। उन्होंने कहा है कि उनके पास इतना पैसा नहीं है कि वे इतना गुजारा भत्ता दे सके। विकास कपूर की पत्नी उनके साथ ही रहती है लेकिन दिन भर उन्हें प्रताडिम्त करती है। 5 से हुए 66मनदीप पुरी बताते हैं कि सबकी कहानी एक है। सब अपनी पत्नियों से पीडिम्त हैं। मनदीप पुरी ने कहा है कि पिछले साल जून में उन्होंने जब संगठन को बनाया था तब पांच सदस्य थे आज पत्नी पीडिम्त लोगों की संख्या 66 हो गई है। हर रविवार को लैजर वैली में बैठक करते हैं। उन्होंने कहा है कि ट्राई सिटी से उनके सदस्यों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। रैली मोहाली के फेज छह से शुरु हुई और कई फेज से होते हुए चंडीगढ़ के सेक्टर 49 व कई जगहों से होते हुए पंचकूला में गई। सदस्य बताते हैं कि उनके परिवार की महिलाएं भी इस मुहिम में उनके साथ है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: हमें हमारी पत्नियों से बचाओ