DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुम्बई को पीछे छोड़ा चंडीगढ़ मैराथन ने

चंडीगढ़ की पहली मैराथन में हजारों दौड़े बच्चों, महिलाओं व सीनियर सिटीजन भी आगेसीमा शर्मा, आरती अग्निहोत्रीचंडीगढ़।चंडीगढ़ की पहली ऐतिहासिक मैराथन ने मुम्बई मैराथन को भी पीछे छोड़ दिया। इथोपिया के मजरेशा ने मुम्बई फुल मैराथन में बनाए अपने ही रिकार्ड को चंडीगढ़ में तोड़ दिया। मुम्बई में वर्ष 2010 में मजरेशा ने 2 घंटे 12 मिनट 34 सैकेंड में दौड़ पुरी की थी। जबकि रविवार को चंडीगढ़ में मजरेशा ने 2 घंटे 10 मिनट 51 सैकेंड में दौड़ पुरी कर विजेता का खिताब जीता। वहीं, हॉफ मैराथन के खिताब पर कीनिया के बॉनिफेस का कब्जा रहा। कंपकंपाती ठंड और रॉक व पुलिस बैंड की प्रस्तुति से चंडीगढ़ की पहली मैराथन का आगाज हुआ। सबसे पहले फुल मैराथन को पूर्व ओलंपियन मिल्खा सिंह ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इसमें लगभग 1 सौ धावकों ने भाग लिया, जिनमें देशी व विदेशी शामिल थे। इसके आधे घंटे बाद गृह सचिव रामनिवास ने हॉफ मैराथन को दौड़ाया, जिसमें 305 धावकों ने भाग लिया। फुल मैराथन इनके रहा नामइथोपिया के मजरेशा ने 2 घंटे 10 मिनट 51 सैकेंड में दौड़ पूरी कर विजेता का खिताब जीता। कीनिया के रोनाल्ड ने 2 घंटा, 17 मिनट 16 सैकेंड लेकर दूसरा, भारत के आशीष चौहान ने 2 घंटा 17 मिनट 36 सैकेंड लेकर तीसरा स्थान हासिल किया। वहीं, इथोपिया के अतनेह, भारत के लक्ष्मण दास, कीनिया के फ्रेड ने चौथा, पांचवां व छठां स्थान हासिल किया।हॉफ मैराथन के विजेताकीनिया के बॉनिफेस ने1 घंटा 2 मिनट 4 सैकेंड में दौड़ पूरी कर पहला, इथोपिया के तेसाफेय ने 1 घंटा 3 मिनट 17 सैकेंड लेकर दूसरा, भारत के प्रमोद कुमार ने 1 घंटा 4 मिनट 49 सैकेंड लेकर तीसरा स्थान प्राप्त किया। इसी तरह भारत के संजय सिंह, एस नरेंद्र व गोबिंद सिंह ने चौथा, पांचवां व छठां स्थान प्राप्त किया। चंडीगढ़ प्रशासन ने किया एनुअल इवेंट घोषितगृह सचिव रामनिवास ने बताया कि मैराथन अब वार्षिक समारोह हुआ करेगा। अगली मैराथन 6 फरवरी 2011 को होगी। मैराथन में देश के अलावा विदेशी धावकों को भी बुलाया जाएगा। ड्रीम रन में दौड़ा शहर5 किलोमीटर की ड्रीम रन शहरवासियों के आकर्षण का केंद्र रही। इस रन में 3 हजार से भी अधिक लोगों ने हिस्सा लिया। प्रशासक के सलाहकार प्रदीप मेहरा ने इस ड्रीम रन को फ्लैग ऑफ किया। इस मौके पर अभिनेत्री पूनम ढिम्ल्लों,हास्य कलाकार जसपाल भट्टी,क्रिकेटर दिनेश मोंगिया व प्रशासन के अन्य अधिकारी मौजूद रहे। ड्रीम रन में प्रशासनिक अधिकारियों ने भाग लिया। कार्यक्रम के अंत में केंद्रीय मंत्री पवन कुमार बंसल ने विजेताओं को पुरस्कार देकर सम्मानित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुम्बई को पीछे छोड़ा चंडीगढ़ मैराथन ने