DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

न मीटिंग हो पा रही, न कप्तान दफ्तर में बैठ

विरष्ठ संवाददाता लखनऊ मौका था पुिलस पेंशनर कल्याण संस्थान की वािर्षक बैठक का। इसमें िरटायर पुिलस अिधकािरयों व कर्मचािरयों ने अपनी समस्याएँ उठाइर्ं। संस्थान के संरक्षक डीजीपी करमवीर िसंह ने िरटायर कर्मचािरयों की समस्याओं को सुना, पर अपने उद्बोधन में उन्होंने उपिस्थित लोगों को एहसास िदला िदया कि महकमे में हर समस्या का समाधान असम्भव है। डीजीपी ने कहा कि इस संगठन में व्यिक्त का महत्व नहीं है। हर व्यिक्त वस्तु की तरह इस्तेमाल हो रहा है। वह पेंशनरों की समस्याओं से अच्छी तरह पिरिचत हैं और कई समस्याओं के िनराकरण का प्रयास किया जा रहा है।डीजीपी ने कहा कि 1984 के बाद से कई ऐसे अफसर-कर्मचारी हैं,जिंनकी अभी तक प्रोन्नित नहीं हुई है। हालाँकि इसकी वजह यह भी है कि ऐसे पुिलस वालों की संख्या ज्यादा है। उन्होंने िरटायर कर्मचािरयों को आश्वासन िदया कि उनकी अिधकतर समस्याओं को जल्दी ही सुलझा िलया जाएगा। डीजीपी ने यह भी कहा कि इस समय पुिलस अफसरों के पास समय नहीं है। क्राइम मीिटंग नहीं हो पा रही है।जिंलों में कप्तान अपने दफ्तर में पूरा समय नहीं दे पा रहे हैं। संस्थान के अध्यक्ष िरटायर डीजीपी ईश्वर चंद्र िद्ववेदी, उपाध्यक्ष श्रीराम अरुण, िरटायर आईजी एसके चन्द्रा, कोषाध्यक्ष शािरक अल्वी ने िरटायर पुिलस वालों की कई समस्याओं से डीजीपी को अवगत कराया। बैठक में िदल्ली पुिलस व अर्धसैिनक बलों के जवानों व यूपी पुिलस के वेतन िवसिंगतयों का मुद्दा उठा। इसके अलावा पुिलस पेंशनरों को साक्ष्य हेतु बुलाने पर यात्राा भत्ता पद के अनुसार पुिलस िवभाग से िदया जाए। एडीजी पुिलस मुख्यालय शीतला प्रसाद श्रीवास्तव ने दावा किया कि छठे वेतनमान के बाद आरक्षी से िनरीक्षक स्तर के कर्मचािरयों का वेतन िदल्ली पुिलस से कम है। इसे बराबर करने के िलए शासन स्तर पर िवचार चल रहा है। साक्ष्य हेतु देय यात्राा भत्ता और दैिनक भत्ता देने का प्रकरण भी िवचाराधीन है। ------------------------------------------------ईश्वर चन्द्र िफर बने अध्यक्षबैठक के दौरान ही सर्वसम्मित से ईश्वर चन्द्र िद्ववेदी को िफर से अध्यक्ष, श्रीराम अरुण को उपाध्यक्ष, एसके चन्द्रा को सिचव और शािरक अल्वी को कोषाध्यक्ष चुन िलया गया।-------------------------------------------------------मुख्य माँगेिरटायर पुिलस कर्मचािरयों को 40 हजार रुपए तक िचकित्सा व्यय प्रितपूिर्त स्वीकृत करने का अिधकार सम्बिन्धतजिंले के कप्तान को िदया जाए।वेतन िवसंगितयों को दूर किया जाएिरटायर पुिलस किर्मयों को छठे वेतनमान का लाभ जल्दी िदलाया जाए िनयमानुसार शहीद हुए पुिलस वालों के पिरवारीजनों को ------------------------------------लखनऊ अव्वल रहाउत्तर प्रदेश पुिलस पेंशनर संस्थान के बनने से लेकर अब तक सबसे अच्छा काम करने के िलए गाजीपुरजिंले को चुना गया जबकि वर्ष 2009 में सबसे अच्छा काम करने के िलए लखनऊजिंले को चुना गया। इनजिंलों के प्रभारी को सम्मान िचह्न देकर पुरस्कृत किया गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: न मीटिंग हो पा रही, न कप्तान दफ्तर में बैठ