DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर-पार की लड़ाई के मूड में है वित्तरहित शिक्षाकर्मी

संवाद सूत्रपटना। वित्तरहित शिक्षाकर्मी अब आर-पार की लड़ाई के मूड में हैं। सरकार द्वारा वित्तरहित शिक्षाकर्मियों को दो साल पहले अनुदान देने की घोषण की गयी थी। बावजूद इसके अभी तक अनुदान नहीं दिये जाने की वजह से शिक्षाकर्मियों में काफी आक्रोश है। वित्तरहित शिक्षा संयुक्त संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष प्रो. राम विनेश्वर सिंह ने इसके विरोध में आगामी विधानमंडल सत्र में 9 तथा 10 फरवरी को जोरदार प्रदर्शन करने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि राज्य के सम्बद्ध डिग्री एवं इंटरमीडिएट महाविद्यालयों तथा माध्यमिक विद्यालयों के हजारों वित्तरहित शिक्षाकर्मी सड़क पर उतरेंगे। महासचिव जय नारायण सिंह मधु ने कहा कि पिछले वर्ष नवम्बर-दिसंबर में पटना में दो महीने की मैराथन जांच के बाद भी अभी आज तक वित्तरहित का पूरा मामला ज्यों का त्यों सचिवालय की अफसरशाही के मकड़जाल में उलझा है। उन्होंने कहा कि इसके पूर्व भी छह माह पहले भी जांच प्रक्रिया चलायी गयी थी और आज भी जांच की ही बात की जा रही है। राज्य सरकार ने सितम्बर माह में वितरहित्त संस्थाओं को अनुदान भेजने की घोषणा की थी। सरकार ने मार्च तक दूसरे सत्र की अनुदान राशि भेजने की बात कही थी। ऐसी स्थिति में शिक्षाकर्मियों का आक्रोश बढ़ता जा रहा है। रविवार को वित्तरहित शिक्षा कमिर्यो की हुई बैठक में शिक्षकों ने आक्रोश जताया। इस मौके पर राज किशोर प्रसाद साधु, सुनील कुमार राय, अरुण कुमार आदि मौजूद थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: आर-पार की लड़ाई के मूड में है वित्तरहित शिक्षाकर्मी