DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उच्च शिक्षण संस्थानों में है बेहतर शिक्षकों की कमी आर्यभट्ट नॉलेज

िहन्दुस्तान प्रितिनिधपटना। उच्च िशक्षण संस्थानों में बेहतर िशक्षकों की कमी पूरे देश में है। सूबा भी इससे अछूता नहीं है। चंद्रगुप्त मैनेजमेंट संस्थान के िद्वतीय स्थापना िदवस के मौके पर मानव संसाधन िवकास िवभाग के प्रधान सिचव अंजनी कुमार िसंह ने कहा कि संस्थान का िवकास तेजी से हो रहा है। कुछ समस्याएं हैं लेकिन उसका समाधान शीघ्र किया जाएगा। छात्रों को किसी प्रकार की परेशानी न हो इसके िलए भी ठोस व्यवस्था की जाएगी।प्रधान सिचव ने कहा कि हमें भरोसा है कि चंद्रगुप्त मैनेजमेंट संस्थान नई ऊंचाइयों को छुएगा। बेहतर फैकल्टी मेंबर की कमी की समस्या पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि उच्च संस्थान तेजी से खुल रहे हैं और उस िहसाब से फैकल्टी नहीं आ रहे। आर्यभट्ट नॉलेज यूिनविर्सटी की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि लगभग ढाई साल से यह योजना एक बेहतर कुलपित के अभाव में लटकी हुई है। सरकारी योजनाओं की चर्चा करते हुए श्री िसंह ने कहा कि कई बाधाओं को दूर करते हुए सरकार ने नए संस्थानों की स्थापना की है। िपछले चार वर्षो में सूबे में बीआईटी मेसरा का िवस्तार पटल, आईआईटी पटना, चाणक्य राष्ट्रीय िविध िवश्विवद्यालय, चंद्रगुप्त मैनेजमेंट संस्थान, िनफ्ट, केंद्रीय िवश्विवद्यालय जैसे संस्थान खुले हैं। उन्होंने कहा कि नए संस्थान खोलने के साथ-साथ उनके िलए एक अच्छा कैंपस, बेहतर पुस्तकालय और अच्छे फैकल्टी की भी व्यवस्था का प्रयास किया जा रहा है। इस मौके पर संस्थान के िनदेशक प्रो. वी. मुकुंददास ने कहा कि 24 माह के दौरान संस्थान ने आशातीत सफलता पायी है। िनिश्चत तौर पर हम एक बेहतर वातावरण का िनर्माण करने में सफल होंगे। कार्यक्रम में कई िशक्षकों ने अपने अनुभवों से अवगत कराया।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: उच्च शिक्षण संस्थानों में है बेहतर शिक्षकों की कमी आर्यभट्ट नॉलेज