DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फंस गए पेच में 50 बीडीओ के तबादले

पटना, हिन्दुस्तान ब्यूरोराज्य निर्वाचन विभाग के आदेश के चक्कर में शनिवार को रातभर चले तबादलों में एक नया पेच फंस गया है। इस नये पेच से 51 अधिकारियों का तबादला लटक गया है जिसमें एक अनुमंडलाधिकारी और 50 बीडीओ शामिल हैं। कुछ ऐसे सुपरवाइजरी अधिकारियों के तबादले भी फंस सकते हैं जिन्हें इस चुनाव में उप निर्वाची पदाधिकारी बनाया गया है। नई बात यह है कि अब राज्य निर्वाचन आयोग ने आदेश जारी कर दिया है कि जिन प्रखंडों में 11 अप्रैल को पंचायत उपचुनाव होना है वहां के चुनाव से जुड़े अधिकारी विरमित नहीं किये जायेंगे। इसके पहले राज्य निर्वाचन विभाग यह कह चुका है कि पांच अप्रैल से फोटो युक्त मतदाता सूची पुनरीक्षण का काम शुरू होना है। यह 15 जून तक चलेगा। इस अवधि में इस काम से जुड़े किसी अधिकारी का तबादला नहीं किया जायेगा। इन दोनों आदेशों के चक्कर में संबंधित 51 अधिकारियों का तबादला 15 जून तक फंस गया। सूबे में पंचायती राज के 51 रिक्त पदों पर उप चुनाव 11 अप्रैल को होना है। जिन पदों के लिए चुनाव होना है उनमें सारण जिला के एक जिला परिषद सदस्य के अलावा दूसरे जिलों में मुखिया के 28, सरपंच के 12 और पंचायत समितियों के 10 सदस्य शामिल हैं। पूर्वी चम्पारण, गया, भागलपुर, सारण, बेगूसराय, समस्तीपुर, मुंगेर, पश्चिम चम्पारण, मधुबनी, किशनगंज, औरंगाबाद, अररिया, सीतामढ़ी,अरवल, कटिहार, पटना, पूर्णिया, नालंदा, कैमूर, बांका, वैशाली और गोपालगंज जिलों में चुनाव होना है। जिला परिषद के चुनाव में रिटर्निग अफसर एसडीओ होते हैं। लिहाजा सारण जिले के जिस अनुमंडल में चुनाव होना है वहां के एसडीओ के तबादला का मामला लटक गया। शेष 50 पदों के लिए निर्वाची पदाधिकारी बीडीओ और सहायक निर्वाची पदाधिकारी सुपरवाइजरी अधिकारी होते हैं। ऐसे में चुनाव वाले प्रखंडों के बीडीओ का तबादला आदेश प्रभावी नहीं हो सकेगा।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फंस गए पेच में 50 बीडीओ के तबादले