DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिहार की नकारात्मक छवि के लिए मीडिया कसूरवार नहीं मीडिया में

कार्यालय संवाददातापटनाबिहार की नकारात्मक छवि के लिए मीडिया को कसूरवार नही ठहराया जा सकता है। मीडिया तो लोगों को आइना दिखाने का काम करता है। यहां की तल्ख सच्चाइयों को ही सामने लाता है। मीडिया की यह जिम्मेदारी है कि वह खबरों में निष्पक्षता बनाए रखे। सत्य लिखने की हिम्मत जुटाए। हम खास तरह की छवियों की गिरफ्त में न आएं। मीडिया में बिहार की छवि विषय पर रविवार को एएन सिन्हा संस्थान में एक निजी चैनल की ओर से आयोजित गोष्ठी में वक्ताओं ने उक्त विचार रखे। सांसद दिग्विजय सिंह ने अपनी बातों को रखते हुए कहा कि सरकारी आंकड़े बताते हैं कि राज्य में गरीबी रेखा से नीच से रहने वालों की तादाद लगभग डेढ़ करोड़ है। मतलब कि नौ करोड़ की आबादी में इतनी आबादी गरीबी रेखा से नीचे है। दिल्ली में चालीस लाख जबकि हरियाणा-पंजाब में डेढ़ करोड़ मजदूर बिहारी हैं। पलायन जारी है। ऐसे में निगेटिव इमेज के लिए मीडिया को कैसे जिम्मेवार मान सकते हैं। एनडीटीवी के संपादक रवीश कुमार ने कहा कि हमें मामूली सुधारों से खुश नहीं होना चाहिए। पाजिटिव चीजों की तारीफ होनी चाहिए पर अब डिमांड करने का भी वक्त आ गया है। गुणात्मक बदलाव नजर आनी चाहिए। वरिष्ठ पत्रकार अजीत अंजुम ने कहा कि पिछले कुछ सालों में राज्य की तस्वीर तो बदली है। थोड़ा विकास भी दिख रहा है व लोगों में निश्चिंतता आयी है। छवि खराब होने में मीडिया की बजाए राजनीतिक व्यवस्था को कसूरवार ठहराया जा सकता है। पाजिटिव चीजें दिखाने की जरूरत है। राज्य की वह तस्वीरें न दिखायी जाएं जो वास्तविक नहीं हैं। हिन्दी आउटलुक के संपादक नीलाभ मिश्र ने कहा कि छवियों की कोई कीमत नहीं जब वे वास्तविकता से दूर चली जाएं। 62 फीसदी मिडडे मील का उठाव नही हो पाता है। नरेगा में हम निचले पायदान पर हैं। कृषि में ऋणात्मक विकास दर है। सांसद अली अनवर ने कहा कि आम लोगों के बीच भी सूबे की एक छवि बनती है। इसी छवि के बूते वे आखिरी निर्णय लेते हैं। वरिष्ठ पत्रकार अरुण रंजन ने कहा कि राज्य में कई तरह की छवियां बनती रही हैं। बिहार की मौजूदा छवि भी उत्पाद है। सामाजिक कार्यकर्ता परवीन अमानुल्लाह ने चिंता जताते हुए कहा कि आम आदमी के सरोकारों से मीडिया दूर होता जा रहा है। मुकेश कुमार ने विषय प्रवर्तन किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बिहार की नकारात्मक छवि के लिए मीडिया कसूरवार नहीं मीडिया में