DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए हिन्दू एकजुट हों :

िहन्दुस्तान प्रितिनिधपटनादिक्षण पीठ रत्नािगरी के जगतगुरु रामानंदचार्य स्वामी नरेन्द्राचार्य महाराज ने कहा कि भारतीय संस्कृित एक संकट के दौर से गुजर रही है। पिश्चमी सभ्यता का असर भारतीय संस्कृित पर पड़ रहा है। इसिलए भारतीय संस्कृित की रक्षा के िलए िहन्दू समाज एकजुट होना चािहए। रिववार को संवाददाता सम्मेलन में स्वामी नरेन्द्राचार्य ने कहा कि िहन्दू धर्म को पूरे िवश्व में ऊंचा करना है। िवश्व में एक भी िहन्दू राष्ट्र नहीं है। राजनीितज्ञों ने तो िहन्दुओं को परेशान करने का काम किया है। अब िहन्दुओं की संख्या कम होने लगी है। िहन्दू संस्कृित पर चारों ओर से हमला हो रहा है। इसिलए िहन्दुओं को संगिठत होकर इसका सामना करना होगा। आज देश में एक समान कानून लागू नहीं है। हज याित्रयों को सरकार हवाई यात्राा सिहत पूरी सुिवधा दे रही है लेकिन िहन्दू तीर्थयाित्रयों को कोई सुिवधा नहीं िमल रही है। यह सब वोट बैंक के कारण ही हो रहा है। आज धर्म पर राजनीित का कोई अंकुश नहीं है इसिलए लोग आज राजनीित से दूर होते जा रहे हैं। राजनीित धर्म से िनयिंत्रत होनी चािहए। िबना धर्म की राजनीित बेकार है। इसिलए देश में समान कानून सिंहता लागू किया जाए। स्वामी जी ने कहा कि अयोध्या में भव्य राम मिंदर बनना चािहए। इसके िलए िहन्दू समाज को केन्द्र सरकार पर दबाव बनाना चािहए। यह पूछे जाने पर कि कुछ साधु-संतों के गलत कारनामे के कारण िहन्दू समाज बदनाम नहीं हुआ है, स्वामी जी ने कहा कि ऐसे कारनामों से संतों की बदनामी होती है इसिलए संतों को भी धर्मपीठों से रिजस्ट्रेशन िमलना चािहए। इस मौके पर यह भी जानकारी दी गई कि अक्टूबर में पटना में स्वामी जी का भव्य कार्यक्रम आयोिजत किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: भारतीय संस्कृति की रक्षा के लिए हिन्दू एकजुट हों :