DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांग्रेस-भाजपा मिली हुई है : लालू बहुरुपिया हैं नीतीश, रोज बदल

पटना(हि. ब्यू.)। भाजपा-कांग्रेस मिली हुई है। यह कोई नई बात नहीं है। मतलब निकल जाता तो पहचानते भी नहीं। अकलियतों, पिछड़े और दलितों का सिर्फ वोट चाहिए इन्हें। हक देने की बात आयी तो महिला आरक्षण में इनके लिए कोटा तय करने से पीछे हट गये। केन्द्र सच्चर कमेटी और रंगनाथ मिश्र आयोग की सिफारिशों को हूबहू लागू करने का साहस नहीं दिखा रहा है। महंगाई से परेशान जनता को राहत देने का प्रयास नहीं हो रहा है। उल्टे इस बिल को लाकर इन मुद्दों से जनता का ध्यान हटाने का प्रयास हो रहा है। नीतीश कुमार का क्या है, वे तो बहुरुपिया हैं। कभी बिल का विरोध करते हैं तो कभी समर्थन। राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद ने रविवार को राबड़ी देवी के आवास पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन में महिला आरक्षण बिल पर कुछ ऐसी ही प्रतिक्रिया व्यक्त की। राजद प्रमुख ने कहा कि बिल को हूबहू पेशकर कांग्रेस-भाजपा ऐतिहासिक भूल करने जा रही है। दोनों पार्टियों के सांसद हमारे पास गुहार लगा रहे हैं। व्हीप जारी किये बिना बिल लायें तो पता चल जायेगा। हम आरक्षण विरोधी नहीं हैं। इसका लाभ उन महिलाओं को मिलना चाहिए जिन्हें आज नरेगा के तहत सिर पर मिट्टी ढोने का काम देकर संतुष्ट करने का प्रयास हो रहा है। संसद और विधानसभाओं में अल्संख्यक महिलाओं की संख्या नगण्य है। पिछड़ी और दलित जाति की महिलाएं भी कम हैं। उन्हें इसका लाभ मिलना चाहिए। हम तो इसका डटकर विरोध करेंगे। सदन में भी करेंगे। मार्शल से बाहर करा देंगे तो सड़क पर करेंगे। जदयू के स्टैंड से जुड़े सवालों के जवाब में उन्होंने कहा कि शरद यादव ने तो इस बिल का विरोध करते हुए जहर पी लेने की बात कह दी थी। नीतीश कुमार भी सुषमा स्वराज के साथ संसदीय समिति में थे तो नोट ऑफ डिसेंट दिये थे। शरद तो अपने स्टैंड पर कायम हैं, नीतीश बदल गये तो क्या किया जा सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कांग्रेस-भाजपा मिली हुई है : लालू बहुरुपिया हैं नीतीश, रोज बदल