DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मुए मुबारक की जियारत के साथ ही उर्स संपन्न हजारों अकीदतमंदों

िहन्दुस्तान प्रितिनिधपटना। खानकाह मुजीिबया, फुलवारीशरीफ में पैगम्बर मोहम्मद (सल.) के मुए मुबारक कीजिंयारत के साथ ही सालाना उर्स पूरी अकीदत के साथ संपन्न हो गया। शिनवार की दोपहर खानकाह पिरसर में मुए मुबारक कीजिंयारत करने के िलए हजारों अकीदतमंदों की भीड़ उमड़ पड़ी। अकीदतमंदों ने मुए मुबारक कीजिंयारत करने के बाद दुआएं मांगी। सुबह से ही स्थानीय लोगों की भीड़ जमा होने लगी थी। वहीं सुबह में हजारों मिहलाओं को भी मुए मुबारक कीजिंयारत कराई गई। इससे पहले अहले सुबह पैगम्बर मोहम्मद (सल.) का कुल व फातेहा हुआ िफर फज्र की नमाज अदा की गई। इस नमाज के बाद महिफले समा का आयोजन किया गयाजिंसमें खानकाह के कव्वालों ने सूिफयाना कलाम सुनाकर जायरीन को मुग्ध कर िदया। हालत यह थी कि कई लोग कलाम को सुनकर िगरने लगेजिंन्हें मौजूद लोगों ने बमुिश्कल संभाला। साथ ही कव्वालों को अकीदतमंदों ने नजराना भी िदया। घंटों चली इस महिफल में लोग टस से मस नहीं हुए। महिफल समा के बाद पैगम्बर मोहम्मद (सल.) का आिखरी कुल व फातेहा हुआ। खानकाह पहुंचे लोगों को तबरुक (प्रसाद) व पानी आिद िदया गया। साथ ही दूर-दराज से आए लोगों के िलए खानकाह प्रबंधन की ओर से खाने-पीने की पूरी व्यवस्था की गई थी। तीन िदवसीय इस उर्स के सभी कार्यक्रमों में खानकाह के सज्जादा गद्दीनशीं जनाब हुजूर हजरत अल्हाज मौलाना सैयद शाह मो. आयतुल्लाह कादरी खुद मौजूद थे। इधर उर्स के समापन के बाद शाम से जायरीनों के खानकाह से जाने का िसलिसला जारी हो गया। देश के कोने-कोने से आए लोग देर रात तक खानकाह से रुखसत होते रहे। इस मौके पर लगने वाले मेले में लगे अस्थायी दुकानों से लोगों ने बाल-बच्चों के िलए सनपापड़ी, रेवड़ी समेत कई जरूरत की चीजों की खरीदारी की। मेले में पुरुष, मिहलाओं व बच्चों की भारी भीड़ देखी गई।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मुए मुबारक की जियारत के साथ ही उर्स संपन्न हजारों अकीदतमंदों