DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं में लिकोरिया, एनीमिया और गैस की शिकायत अधिक

पटना। घर में रहने वाली अधिकांश महिलाएं अपने सेहत पर ध्यान नहीं देती। सुबह उठते ही बच्चों को स्कूल भेजने की तैयारी। उसके बाद पति को दफ्तर। फिर घर का बाकी काम खत्म करने के बाद ही उन्हें अपने बारे में ध्यान जाता है। एक चाय पी ली, हो गया। नहीं तो पूजा-पाठ करने के बाद ही कुछ ग्रहण करती है। इस वजह से महिलाओं में गैस बनने की शिकायत ज्यादा होने लगी है। इसके अलावा महिलाएं लिकोरिया, एनीमिया, कब्ज, मासिक धर्म की गड़बड़ी से ग्रस्त हैं। यह कहना है प्राकृतिक चिकित्सक डा. नन्द कुमार झा का। वे शनिवार को ‘हिन्दुस्तान’ के ‘हेलो डाक्टर’ कार्यक्रम में पाठकों को सलाह दे रहे थे। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य अंदर है और बीमारी बाहर है। बीमारी हम बाहर से लाते हैं या थोपते हैं। अनेक गलतियां कर बैठते हैं। परिणामस्वरुप खान-पान, रहन-सहन तथा चिंतन-मनन सभी विकृत हो जाते हैं। शरीर में विजातीय पदार्थ संचित होने लगता है तथा मन में प्रदूषित वासनाएं दमित होने लगती है। रोग से लड़ने की क्षमता कमजोर हो जाती है। खून दूषित हो जाता है। शरीर की ग्रंथियां जहर छोड़ने लगती हैं और बीमार शरीर लेकर जीवन जीने को विवश हो जाते है। फिर तो जीवन का आनंद ही समाप्त हो जाता है। महिलाओं कौ दैनिक आहार में आंवला, नींबू, नारंगी, मूली, हिंग, अजवाइन, गाजर, राई, दूध, दही, छाछ, पनीर, अंकुरित अनाज, हरी साग-सब्जी, दाल आदि सेवन नियमित निश्चित रुप से करना चाहिए। पेट में दर्द रहता है और गैस बहुत ज्यादा बनती है।केशव मिश्रा,बेगूसराय सुबह में नींबू डालकर तीन ग्लास पानी का नियमित सेवन करें। सुबह में दो किलो मीटर पैदल चले। प्राणायाम, कपालभाति का अभ्यास करें। हरी साग-सब्जी, सूप का सेवन करें। तले, भूने आहार न लें।गैस बहुत ज्यादा बनता है और कब्ज रहता है।अशोक, मनेरइसबगोल की भूंसी, हरी सब्जी और सलाद का नियमित सेवन करें। सुबह में टहले। यौगिक क्रिया का अभ्यास करें। सुबह में गुनगुने पानी का सेवन करें। लाभ मिलेगा।भ्रामरी प्राणायाम कैसे करें।चंद्रकांत निराला, पटनादोनों कान को बंद करके सांस अंदर भरें और भौरे की तरह गुंजन करें।गैस से परेशान रहता हूं।अखिलेश सिंह, पटनाहरी साग-सब्जी के सूप का प्रयोग करें। साथ में कुछ यौगिक क्रिया अभ्यास करें। साइनस का उपचार बताए।अरविंद पांडेय, पटनाजलनेति, रबर नेति व कपालभाति प्राणाायाम का अभ्यास करें। मन को एकाग्र कैसे करें।संजीव कुमार, पटनात्राटक, प्राणायाम व ध्यान का नियमित अभ्यास करें। मन को भाने वाले गीत, संगीत सुने। पीलिया के लिए कौन सी प्राकृतिक चिकित्सा करें।दिनेश कुमार, पटना सिटीहरी साग-सब्जी का सूप का प्रयोग करें। खीरा का रस लें। कुछ प्राणायाम का अभ्यास करें। शरीर में खून की कमी है, कमजोरी लगती है। क्या करें।पंक ज ओझा, पटनाहरी साग-सब्जी, फल, दूध, फलो का जूस के साथ-साथ पौष्टिक आहार का सेवन करें। बेदाना, काजू और किसमिस का सेवन लाभप्रद रहेगा। सुबह उठने की आदत डाले। नियमित नाश्ता और भोजन करें। गाय का गर्म दूध रात में नियमित लें।पेट साफ नहीं होता।धर्मेन्द्र कुमार महतो, गुलजारबागहरी साग-सब्जी और चोकर युक्त आटे की रोटी का सेवन करें। सुबह में गुनगुने पानी का सेवन करें। नियमित मार्निग वॉक करें। प्रस्तुति--अजय कुमार सिंहं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महिलाओं में लिकोरिया, एनीमिया और गैस की शिकायत अधिक