DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं में मोटापा भी बांझपन का कारण

पटना। महिलाओं में मोटापा भी बांझपन का एक प्रमुख कारण है। इसके अलावा ल्यूकोरिया, पीरियड की गड़बड़ी, थायरॉयड, मधुमेह, एपीलेप्सी, अंडा नहीं बनने या फिर ट्यूब के बंद होने से महिलाओं में बांझपन की शिकायत देखने को मिल रही है। यह कहना है स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. शांति राय का। वह शनिवार को हिन्दुस्तान के हेलो डाक्टर कार्यक्रम में पाठकों को सलाह दे रही थी। उन्होंने कहा कि जांच करा लेने पर बीमारी की सही जानकारी मिल जाती है और इसका इलाज भी संभव है। अधिक उम्र हो जाने पर इलाज में परेशानी होती है। यदि उम्र कम है तो इलाज सहज तरीके से संभव हो जाता है। डा. राय ने कहा कि महिलाओं के मुकाबले स्कूल-कालेज में पढ़ने वाली लड़कियों में पीरियड की गड़बड़ी बहुत ज्यादा है। पीरियड के दौरान किसी को अधिक स्रव तो किसी को असहनीय दर्द तो किसी को महीने में दो बार पीरियड होने की शिकायत रहती है। अधिकांश महिलाएं लिकोरिया से भी पीडिम्त हैं। इसमें से कोई भी लाइलाज बीमारी नहीं है। सभी का इलाज संभव है। जरूरत जांच और इलाज कराने की है। सही समय पर जांच करा ली जाए तो ये छोटी-छोटी बीमारियां जटिल नहीं होंगी। शादी के आठ महीने हो गए, गर्भ नहीं ठहरा। जांच से पता चला है पति के शुक्राणु नहीं हैं।अर्चना, पटनाशुक्राणु खत्म हो गया या फिर टेस्टीज के अंदर है निकल नहीं रहा है। कुछ मामलों में शुक्राणु बनते हैं लेकिन बाहर नहीं आ पाते। आर्टीफीसियल इन्सेमिनेशन से मां बन सकती हैं। ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। बच्चाा गोद भी ले सकती हैं। शादी के बाद नौ महीने से साथ हैं लेकिन पत्नी गर्भवती नहीं हुई। विजय प्रकाश, पटनाजांच करा लीजिए। पहले अपनी जांच करा लीजिए। यदि आपकी रिपोर्ट ठीक है तो 50 फीसदी सब ठीक है। इसके बाद पत्नी की भी जांच करा लीजिए। पीरियड की गड़बड़ी से परेशान हूं। इस दौरान स्रव कुछ ज्यादा ही होता है। अल्ट्रासाउंड भी करा चुकी हूं। संगीता, पटनाहीमोग्लोबिन यदि 74 फीसदी है तो कोई चिंता की बात नहीं है। किसी को कम या अधिक रक्त स्रव होता है। यदि हीमोग्लोबिन कम हो जाय तो चिंता का विषय है। पीरियड के दौरान काफी दर्द होता है। सामने मैट्रिक परीक्षा है। सोचती हूं परीक्षा छोड़ दूं।निधी, दानापुरइसके लिए परीक्षा छोड़ने की जरूरत नहीं है। किसी-किसी में पहले दिन दर्द ज्यादा होता है और किसी को दूसरे दिन से दर्द कम होने लगता है। जबकि किसी-किसी को पूरे पीरियड के दौरान दर्द रहता है। अल्ट्रासाउंड करा लें। यदि कोई बीमारी है तो पता चल जाएगा। पीरियड अनियमित है और देर से आता है। सांस भी फूलती है।पूनम, पटनाहारमोन्स की जांच करा लें। थायरॉयड की वजह से भी पीरियड अनियमित हो जाता है। अल्ट्रासाउंड कराकर देख लीजिए। सांस फूलती है तो डाक्टर से दिखा लीजिए। पत्नी की यूटेरस में टीबी है।अवधेश, दरभंगाइलाज कराइए ठीक हो जाएगा। टीबी का इलाज संभव है। ल्यूकोरिया के लिए बच्चोंदानी निकलवा दी।नताशा, पटनाल्यूकोरिया के लिए बच्चोंदानी निकालने की जरूरत नहीं होती। वैसे इनफेक्शन है कि नहीं जांच करा लीजिए। दवा लेनी पड़ेगी ठीक हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: महिलाओं में मोटापा भी बांझपन का कारण