DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एमजे वारसी की उपलब्धि मस्ट

पटना। प्रख्यात भाषाविद् और शोधकर्ता एमजे वारसी अमेरिका में साउथ एशियन लैंग्वेज कोर्स के विकास के लिए काम करेंगे। इस काम के लिए वारसी का चयन 200 विद्वानों के बीच में से साउथ एशियन लैंग्वेज रिसोर्स सेंटर (एसएएलआरसी) द्वारा किया है। कोर्स के विकास के लिए फंडिंग यूएस डिपार्टमेंट ऑफ एजुकेशन्स इंटरनेशनल एजुकेशन एंड ग्रैजुएट प्रोग्राम सर्विस द्वारा किया जा रहा है। वारसी का जन्म दरभंगा के वरना गांव में हुआ था। उन्होंने अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के एमए और पीएचडी की और गोल्ड मेडल भी प्राप्त किया। उन्होंने भाषा और संस्कृति से जुड़े कई किताब भी लिखे हैं। वर्तमान में वे अमेरिका स्थित साउथ एशियन स्टडीज डिपार्टमेंट में भाषा विज्ञान और संस्कृति पढ़ाते हैं। उनको 2003 में फ्रीमैन फाउंडेशन ग्रांट और 2005 में बर्कले विश्वविद्यालय द्वारा टीचिंग अवार्ड भी दिया गया है

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एमजे वारसी की उपलब्धि मस्ट