DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इमारत सामूहिक शक्ति पैदा करना चाहती है मुसलमानों में: अमीर-ए-

िहन्दुस्तान प्रितिनिध पटना। इमारत-ए- शिरया के अमीर-ए- शरीयत हजरत मौलाना सैयद िनजाम उद्दीन ने कहा है कि इमारत मुसलमानों में सामूिहक शिक्त पैदा करना चाहती है ताकि वे अपनीजिंंदगी में एकजुट व सही ढंग सेजिंंदगी गुजार सकें। रिववार को इमारत सभागार में आयोिजत सालाना परामर्शदातृ कमेटी की बैठक में हजरत ने कहा कि लोगों को चािहए के वे इमारत के मकसद के बारे में प्रचार करें। उन्होंने कहा कि इमारत किसी व्यिक्त िवशेष का नाम नहीं है बिल्क हर वह शख्स इससे जुड़ा है जो इमारत की िफक्र करता है। िबहार, झारखंड, उड़ीसा, पिश्चमी बंगाल के दो सौ से अिधक लोगों ने इस बैठक में िशरकत की। इस अहम बैठक में इमारत का चालू िवत्तीय वर्ष के िलए 3 करोड़ 58 लाख रुपए का बजट पेश किया गया जो िपछले साल की अपेक्षा एक करोड़ अठारह लाख ज्यादा है। उर्दू की िवकास के िलए इमारत के एक प्रितिनिधमंडल के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भेंट करने पर भी सहमित बनी। सीबीएसई िसलेबस के जायजा के िलए इमारत के नािजम मौलाना अिनसुर रहमान कासमी के के नेतृत्व में एक कमेटी के गठन करने पर भी मुहर लगी। उधर इमारत के नािजम मौलाना कासमी ने वािर्षक िरपोर्ट पेश करते हुए कहा कि इमारतजिंस तरह िबहार के िमल्ली मसाएल के हल करने के िलए िचिंतत रहती है उसी तरह झारखंड, बंगाल व उड़ीसा के मुसलमानों के समस्याओं पर भी पैनी नजर रखती है। इमारत के नाएब नािजम मौलाना सुहैल अहमद नदवी ने िविभन्न िमल्ली मसाएल पर चर्चा की। मौलाना नजरुल हफीज ने कहा कि इमारत सही मायने में नेमते खुदावंदी है। सबों को इसकी कद्र करनी चाहीए। मौलाना अहमद अली कासमी ने कहा कि इमारत पूरी देिनया में वािहद इकलौता एदारा है जो पूरे मानव की भलाई की बात करती है। इस मौके पर इमारत के नाएब नािजम मौलाना सनाउल होदा कासमी प्रो. वसी अहमद, मौलाना अबुल कलाम शम्सी डा. एए हई, जावेद इकबाल, शकील अहमद कासमी, नजमुल हसन नजमी, रािगब अहसन, मो. मजािहर, प्रो. महमूद नहसवी, तैयब एखलाकी, डा. कमाल अशरफ समेत कमेटी के दौ सौ लोगों ने िशरकत की। बैठक में पािरत प्रस्ताव 1. सिंवधान के तहत जो मुसलमानों के उनके पर्सनल लॉ में अिधकार िदए गए हैं उसे सुरक्षा दी जाए। 2. मुसलमानों को सच्चर कमेटी की िरपोर्ट के आधार पर दस फीसदी आरक्षण िमले।3. सिंवधान की धारा 341 को संशोिधत कर मुसलमानों का एससी व एसटी की तरह आरक्षण का प्रावधान हो। 4. मुसलमानों में िशक्षा को बढ़ाने के िलए सरकार नीित बनाए। 5. किशनगंज में एएमयू की शाखा को स्थािपत करने में सरकार िवशेष ध्यान दे। 6. मौजूदा मिहला आरक्षण िबल में संशोधन कर उसमें मुिस्लम मिहलाओं का भी कोटा हो।7. मुिस्लम समाज में पिश्चमी सभ्यता को रोकने के िलए प्रयास हो।8. समाज में एक प्रेशर ग्रुप बनाकर ितलक,दहेज, शादी में फजूल खर्ची, शराबबंदी, फैशन जैसी िबमारियों को दूर किया जाए। 9. कोसी बाढ़ पीड़तों के पुनर्वास के िलए सरकार मदद करे। 10. सांप्रदाियक दंगा फैलाने वालों के िलए कड़ा कानून बने और पीिड़तों को उिचत मुअवाजा िमले।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: इमारत सामूहिक शक्ति पैदा करना चाहती है मुसलमानों में: अमीर-ए-