DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बड़ाें ने सबक सीखने का वादा युवा संसद को सबसे सराहा

पटना (हि.ब्यू.)। युवा संसद के संदेश से बड़ाें ने सबक सीखने और उसे चालू सत्र में पूरा पालन करने का वादा किया। शनिवार को सदन की कार्यवाही देखने पहुंचे विधान परिषद के सभापति, विधानसभाध्यक्ष, राज्य सरकार के मंत्री और विधायकों से लेकर मीडियाकर्मियों तक, सभी बच्चों के काम करने के तरीके से प्रभावित दिखे। सबों ने युवा संसद के आयोजन को जमकर सराहा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने संदेश में बच्चों का उत्साहवर्धन करते हुए यह उल्ेख किया कि युवा संसद से बच्चों में राजनीतिक चेतना आयेगी और समाजसेवा की भावना बढ़ेगी। विधान परिषद के सभापति ताराकांत झा ने राजनीतिक दलों से विश्वविद्यालय के टॉपर छात्रों को अन्य क्षेत्रों की बजाय राजनीति में लाने की सलाह दे डाली। विधानसभाध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने कहा कि युवा संसद में आए बच्चों को देखकर लगता है, नयी पीढ़ी में इंसानियत सबसे आगे होगी। जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव के अनुसार बच्चों ने अपनी जिम्मेदारी का सफलतापूर्वक निर्वहन किया। कृषि मंत्री रेणु कुमार ने कहा कि बच्चों की कार्यशैली देखकर विश्वास हो गया, हमारा भविष्य उज्जवल है। पूर्व विदेश राज्यमंत्री हरिकिशोर सिंह ने माना कि भावी पीढ़ी लोकतांत्रिक व्यवस्था के प्रति गंभीर है। मुख्य विपक्षी दल के मुख्य सचेतक डॉ. रामचन्द्र पूर्वे ने कहा कि सरकारी स्कूलों के बच्चों में निजी स्कूलों के बच्चों से अधिक क्षमता है। राजद के अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कहा कि बच्चों के माध्यम से हमारी कमजोरियां उजागर हुई, हम इसमें सुधार करेंगे। निर्दलीय विधायक किशोर कुमार ने इस कार्यक्रम का दायरा गांवों तक पहुंचाने की आवश्यकता जतायी। तिलेश्वर कामत ने कहा कि बच्चों का अनुशासन देखकर हमें प्रेरणा मिली है। कांग्रेस के रामदेव राय ने कहा कि बच्चों से सीखने का अवसर मिला। कॉमनवेल्थ की राधिका कौल बत्रा ने माना कि बिहार का भविष्य उज्जवल है। हिन्दुस्तान के वरीय स्थानीय संपादक अकु श्रीवास्तव ने बच्चों को उनका आदर्श खुद को बनाने की सलाह दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बड़ाें ने सबक सीखने का वादा युवा संसद को सबसे सराहा