DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गंगाजल में बिहार की हिस्सेदारी की उम्मीद जगी केन्द्र ने विचार

पटना (हि.ब्यू.)। बिहार की नाराजगी के बाद गंगाजल के विवाद का रास्ता निकलता नजर आ रहा है। केन्द्र गंगाजल में बिहार की हिस्सेदारी पर विचार करेगा। यही नहीं गंगा बेसिन की अन्य नदियों से जुड़ी समस्याओं पर भी केन्द्र-बिहार विमर्श होगा। गंडक और सोन नदियों के कारण हो रही परेशानी दूर करने में भी केन्द्र बिहार को मदद देगा। केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय ने बिहार को इस मुद्दे पर विचार का आश्वासन दिया है। इसीलिए जल समस्याओं के निदान के लिए बिहार को आमंत्रित किया गया है। दिल्ली में 4 फरवरी को बिहार से सम्बद्ध मुद्दों पर उच्चस्तरीय बैठक होगी। बैठक में बिहार के जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव शिरकत करेंगे। वे केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री से गंगा जल के बंटवारे, सिंचाई व औद्योगिक जरूरतों को पूरा करने के साथ-साथ गंगाजल के विभिन्न उपयोग, नेपाल के लिए गंडक प्रोजेक्ट, केन्द्रीय योजनाओं, सोन नहर प्रणाली, बाढ़ प्रबंधन योजनाओं, जीएफसीसी और केन्द्रीय सहयोग से बिहार में लागू होने वाली नई योजनाओं पर भी विचार-विमर्श होगा। पिछले दिनों गंगाजल को लेकर उठे विवाद के बाद बिहार ने केन्द्र से अपनी नाराजगी प्रगट की भी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी विरोध प्रगट किया था जबकि जल संसाधन मंत्री विजेन्द्र प्रसाद यादव ने केन्द्रीय जल संसाधन मंत्रालय से नाराजगी प्रगट की थी। उन्होंने गंडक, सोन समेत अन्य योजनाओं में बिहार की उपेक्षा का आरोप लगाकर मंत्रालय को कड़ा पत्र भी लिखा था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: गंगाजल में बिहार की हिस्सेदारी की उम्मीद जगी केन्द्र ने विचार