DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कार्यकर्ता की भूमिका में निकले लालू शहर के हर चौक पर

पटना(हि. ब्यू.)। माथे पर मफलर की पगड़ी और सफेद चादर ओढ़े राजद अध्यक्ष लालू रविवार को कार्यकर्ता की भूमिका में राजधानी की सड़कों पर निकले। गरीब चेतना रथ पर सवार लालू 28 जनवरी को बिहार बंद का प्रचार कर रहे थे। प्रचार का अंदाज बिल्कुल सामान्य कार्यकर्ताओं वाला था। अंतर केवल इतना था कि आम कार्यकर्ता रिक्शा अथवा टेम्पो पर प्रचार करते हैं और लालू गरीब चेतना रथ पर थे। एक हाथ में माइक और दूसरा हाथ ऊपर किये वे लोगों को याद दिला रहे थे- याद रहे। 28 जनवरी को पूरा बिहार बंद रहेगा। 28 जनवरी को रिक्शा बंद, टेम्पो बंद, गाड़ी बंद और दुकान बंद। बढ़ती महंगाई के खिलाफ सबकुछ बंद रहेगा। बीच-बीच में वे गरीब चेतना रथ का दरवाजा खोलते और लोगों से बातचीत करने के अंदाज में प्रचार करने लगते। रविवार को श्री प्रसाद निकले तो थे छपरा, सीवान, गोपालगंज और वैशाली जिले के बंद संमर्थकों में अलख जगाने लेकिन जुट गये शहर में प्रचार करने। वैसे भी श्री प्रसाद दिखें या न दिखें हर चैराहे पर उनकी आवाज जरूर गूंज रही है। महंगाई के खिलाफ बंद को सफल बनाने के लिए पार्टी ने इस बार अपने स्टार प्रचारक को ही उतार दिया है। उनकी आवाज में नारे रिकार्ड कराये गये हैं जो हर चौक पर गूंज रहे हैं। प्रचार की कमान तो वे खुद संभाले हुए हैं ही कार्यकर्ताओं के लिए योजना भी वे खुद बना रहे हैं। सोमवार को हर जिला मुख्यालय में महिलाएं खाली बर्तन ढनढनाते निकलेंगी सड़क पर तो बंद की पूर्व संध्या पर युवकों का काफिला हाथ में मशाल लिए निकलेगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: कार्यकर्ता की भूमिका में निकले लालू शहर के हर चौक पर