DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूबे की सारी खूबसूरती देखनी है एकजगह तो.. सजधज कर तैयार

कार्यालय संवाददातापटनासूबे की सारी खूबसूरती देखना चाहते हैं एक जगह पर तो चले आइए गांधी मैदान में। राज्य की समृद्ध कला , संस्कृति व ऐतिहासिक धरोहरों की एक झलक यहां मिलेगी। गांधी मैदान के 12 लाख वर्गफीट में बोधगया का महाबोधि मंदिर, केसरिया का स्तूप, वैशाली का स्तूप, पावापुरी का जलमंदिर,नालंदा का खंडहर, बराबर की पहाड़ी , शहीद स्मारक व पटना का सचिवालय का नजारा जीवंत हो उठा है। शाम होते ही स्पेशल लाइटिंग इफेक्ट से यह दृश्य और मनोरम दिखता है। जी हां, गांधी मैदान में सोमवार से शुरू हो रहा है बिहार दिवस का मेगा समारोह। यह सारी तैयारी उसी की है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस तीन दिवसीय समारोह का आगाज करेंगे। रविवार की देर रात तक तैयारियों को अंतिम रूप दिया जाता रहा। अधिकारियों की फौज लगातार इस पर नजर गड़ाए रही। गांधी मैदान की बदली फिजां विदेशी मेहमानों को भी यहां खींच ला रही है। संडे को कई विदेशियों की झुंड मैदान में जीवंत हो उठे बौद्ध सर्किट के स्थलों के साथ 12 फीट की भगवान बुद्ध की प्रतिमा को निहारती नजर आयी। पटना आर्ट कालेज की पासआउट रश्मि वर्मा ने इस प्रतिमा को साकार रूप दिया है। स्टोन इफेक्ट के कारण यह प्रतिमा सजीव नजर आती है। वहीं फिल्मों व टीवी सीरियलों के सेट डिजाइनर उमेश कुमार शर्मा ने मैदान में पसरी इन सारी खूबसूरती को आकार दिया है। पिछले एक महीने से वे इसपर काम कर रहे थे। वहीं दिनभर किलकारी के बच्चों की भी किलकारी गूंजती रही। बच्चों सारा दिन रिहर्सल करते रहे। देर शाम लोककलाकार व लोकनर्तकों की टोली भी अपने प्रदर्शन का अभ्यास करती नजर आई। मैदान में आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से भी आपदा प्रबंधन के मॉकशो की तैयारी चल रही थी। तलवारबाजी का भी मंच तैयार हो चुका है। इस मंच पर कल से हैरतअंगेज करतब देखने को मिलेंगे। उधर पटना आर्ट कालेज में तीन दिनों से वरिष्ठ व युवा कलाकारों की ओर से बिहार दिवस के लिए तैयार हो रही कलाकृतियों की प्रदर्शनी भी लगेगी। देर रात सारी कलाकृतियां यहां पहुंच गयी। बराबर की पहाड़ी की शक्ल में बनी गैलरी में राज्य के चर्चित मूर्तिकारों की मूर्तियां लगेंगी। बिहारी व्यंजनों की खुशबू बिखेरने के लिए एक अलग ही गैलरी बनी है। पावापुरी के जलमंदिर की डिजाइन वाले मेकशिफ्ट सिनेमाहॉल में तीनों दिन फिल्मों का प्रदर्शन होगा। सूचना व जनसंपर्क विभाग के अधिकारी के मुताबिक सभी फिल्में डाक्यूमेंट्री हैं। फिल्में एक नजर में;22 मार्च : विरासत(समय: 2 से 4 .30 बजे)23 मार्च : जय गंगे : बिहार गौरव गान : परिक्रमा (समय : 3 से 6 बजे तक) 24 मार्च : अतीत के हस्ताक्षर : पदचिह्न् : बिहार एक आनन्द (समय : 2.30 से 4.30 बजे तक)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: सूबे की सारी खूबसूरती देखनी है एकजगह तो.. सजधज कर तैयार