DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जनगणना 2010

इस महीने की एक तारीख से देश की एक अरब, बीस करोड़ आबादी की जनगणना का काम शुरू हो चुका है। यह दुनिया के इतिहास में सबसे बड़ी प्रशासनिक प्रक्रिया होगी। इस बार की जनगणना में कई नई चीजें होने जा रही हैं। आइए देखते हैं इस बार नया क्या होगा

आंकड़ों का सबसे बड़ा संग्रह
गृह मंत्रालय के अंतर्गत कराई जाने वाली जनगणना से मिलने वाले आंकड़े देश के नागरिकों की पहचान का सबसे प्रामाणिक स्रोत होते हैं। इन आंकड़ों से सरकार को तमाम योजनाएं बनाने में मदद मिलती है।

कैसे पूरा होगा भागीरथ प्रयास
जनगणना करने वाले देश के हर घर तक पहुंचेगे और फार्मो में जानकारी इकट्ठा करेंगे। यह जानकारियां डाटा प्रोसेसिंग के लिए देश के 15 शहरों में भेजी जाएंगी। तेज गति से और सटीक जानकारियों के लिए डाटा प्रोसेसिंग में इंटेलीजेंट कैरेक्टर रिक्गनिशन साफ्टवेयर (आईसीआर) का प्रयोग किया जाएगा।

क्या नया है इस बार
जनगणना में इस बार एक नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) बनाया जाएगा जिसमें सारे आंकड़े होंगे। इसमें 15 साल के ऊपर के सभी नागरिकों के फोटोग्राफ और बॉयोमीट्रिक पहचान दर्ज कराई जाएगी। पहली बार लोगों के कम्प्यूटर, मोबाइल, पीने के पानी की उपलब्धता और घरों में टॉयलेट होने जैसी जानकारियां भी दर्ज की जाएंगी।

खास बातें
- 2008 में जनसंख्या 1,139,965,000
- 1872 में शुरू हुई जनगणना, यह 15 वां मौका
- इस साल अप्रैल से जुलाई के बीच बनाई जाएगी घरों की सूची और उसके आधार पर लोगों की सूची
- 9 से 28 फरवरी 2011 के बीच जनगणना को अंतिम रूप दिया जाएगा
- यह प्रक्रिया 5 मार्च 2011 तक पूरी हो जाएगी और जून 2011 तक जनगणना के आंकड़े लोगों को देखने के लिए मिल जाएंगे

जरूरी सूचना
- जनगणना में मदद न करने वाले को दंड भी दिया जा सकता है।
- जनगणना में दी गई आपकी जानकारी पूरी तरह गोपनीय होगी, इसे किसी भी हालत में पाया नहीं जा सकेगा।
- अधिकारी जनगणना के लिए आने से पहले हर गृहस्वामी को इसकी सूचना देंगे।

आंकड़े जुटाने के बाद नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) को यूनिक आइडेंटिफिकेशन नंबर के लिए भेजा जाएगा। यह नंबर हर किसी के लिए होगा। इसका प्रयोग पहली बार किया जा रहा है। यूआईडी नंबर देने के बाद एनपीआर को देश के जनगणना के रजिस्ट्रार के पास जाएगा। पहला एनपीआर कार्ड इस साल के अंत तक तैयार होने की उम्मीद है।

आपको क्या करना होगा
- जनगणना करने वाले अधिकारी हर गृहस्वामी के पास जाकर उसे दो फॉर्म देंगे। पहले फॉर्म में घर की जानकारी से जुड़े 35 सवाल होंगे। इसमें घर बनाने में लगने वाले सामान, घर का इस्तेमाल, पीने के पानी का इंतजाम, लैट्रिन की उपलब्धता और उसका प्रकार, बिजली और संपत्ति का ब्योरा शामिल होगा।

- दूसरा फॉर्म एनपीआर से सम्बंधित होगा। इसमें व्यक्ति का नाम, लिंग, जन्म तिथि, जन्म स्थान, वैवाहिक स्थिति,माता,पिता और पति या पत्नी का नाम,वर्तमान पता, स्थाई पता,व्यवसाय, राष्ट्रीयता, शैक्षिक योग्यता और परिवार के मुखिया से संबंध जैसी जानकारी देनी होगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जनगणना 2010