DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भूख से गुस्साए हॉस्टल के छात्र, भागे शिक्षक

भभुआ (कैमूर)(पटना),एक संवाददातास्थानीय अम्बेदकर छात्रावास के बच्चों भूख से बिलबिला रहे हैं। जिससे उनकी हालत बिगड़ती जा रही है। छात्र काफी गुस्से में हैं। उनके गुस्से को देख शिक्षक भी स्कूल छोड़कर चले गए हैं। जिस कारण सोमवार को पढ़ाई नहीं हो सकी। छात्र करण, अभिषेक, जौनी, संतोष, अंजन ने बताया कि शनिवार से ही वे भूखे हैं। यह पूछने पर कि जब रविवार को प्रशासनिक अफसरों द्वारा भोजन का प्रबंध किया जा रहा था तो वे क्यों नहीं भोजन किए के जवाब में कहा कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जाएगी तब तक वे खाना नहीं खाएंगे। समस्याओं के खिलाफ चार माह पूर्व भी उक्त हॉस्टल के छात्रों ने किचेन रूम में तोड़फोड़ किया था। तब अफसरों, शिक्षकों व छात्रों के बीच समझौता हुआ था। ढाई माह पहले जब कल्याण मंत्री जीतन राम मांझी उक्त स्कूल में गए थे तब वहां की कुव्यवस्था को देख भड़क उठे थे। उन्होंेने अफसरों को व्यवस्था में सुधार लाने का निर्देश भी दिया था। छात्रों ने बताया कि 280 छात्रों को बैठकर पढ़ने के लिए मात्र तीन कमरें हैं। जबकि सात कमरों की आवश्यकता है। शिक्षक के अभाव में कम्प्यूटर बेकार पड़े हैं। दो साल का कपड़ा दरी व बेडसीट नहीं मिला है। तीन माह से दवा व तेल का पैसा नहीं मिल रहा है। डेस्क व बेंच की कमी है। स्कूल परिसर का चापाकल खराब होने के कारण उन्हें पानी पीने के लिए छात्रावास व स्नान करने के लिए सुवरा नदी में जाना पड़ता है। मालूम हो कि रविवार को छात्रों द्वारा किए गए तोड़फोड़ मामले की जांच करने गए डीडीसी की गाड़ी को कुछ छात्रों ने फूंक दिया था। इधर जिला कल्याण पदाधिकारी पद्युम्न पांडेय ने कहा कि छात्रों द्वारा लगाए जा रहे आरोप गलत हैं। छात्रों ने प्रखंड कल्याण पदाधिकारी व शिक्षकों के साथ मारपीट की है। छात्रों को भोजन उपलब्ध कराने के लिए वरीय अफसरों से बातचीत की जा रही है। निर्देश मिलने पर भोजन का प्रबंध किया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:भूख से गुस्साए हॉस्टल के छात्र, भागे शिक्षक