DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

स्वास्थ्य विभाग में नियुक्ति व ट्रांसफर पोस्टिंग रद्द

खगडिम्या(पटना), एक प्रतिनिधिस्वास्थ्य विभाग के क्षेत्रीय उपनिदेशक,(आरडीडी) मुंगेर प्रमंडल ने जिला स्वास्थ्य समिति के पत्रांक 93 और 94 दिनांक 30 जनवरी 2010 के द्वारा नियुक्त संविदा आधारित एएनएम की नियुक्ति के साथ-साथ बिना स्थापना समिति की बैठक किये स्वास्थ्य कर्मियों के किये गये तबादले को रद्द कर दिया है। उल्लेखनीय है कि 17 मार्च 2010 को सिविल सर्जन कार्यालय का निरीक्षण करने के दौरान आरडीडी ने कई अनियमितताएं पकडम्ी थी। उन्होंने दिनांक 19 मार्च 2010 को सिविल सर्जन, खगडिम्या को तीन पत्र जारी कर आदेश दिया था कि पूर्व सिविल सर्जन, खगडिम्या डा. अजय प्रताप द्वारा अपने कर्तव्य काल में स्थानान्तरण व पदस्थापन, संविदा पर आधारित एएनएम की नियुक्ति करने एवं जिला स्वास्थ्य समिति में डाटा आपरेटर की अनियमित बहाली के संबंध में विहित प्रक्रिया की जांच कर र्पिोट करें। सिविल सर्जन ने अपने पत्रांक 2 दिनांक 20 मार्च 2010 के द्वारा आरडीडी को सूचित किया है कि संविदा पर की गई एएनएम की नियुक्ति में विहित प्रक्रिया का कोई साक्ष्य उपलब्ध नहीं है। तथा वैसे एएनएम का वेतन भुगतान तत्काल प्रभाव से स्थगित कर दिया गया है। पत्रांक 3 दिनांक 20 मार्च 2010 के द्वारा आरडीडी को बताया गया है कि जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी के द्वारा डाटा आपरेटर की मांग एवं आवेदक रंजीत कुमार के आवेदन पर उसकी डाटा आपरेटर के पद पर की गई नियुक्ति जिला स्वास्थ्य समिति से बिना कोई प्रक्रिया अपनाये की गई। जिसकारण उक्त डाटा आपरेटर को जारी किया गया प्राधिकृत पत्र नियमानुकूल प्रतीत नहीं होता है। जबकि सीएस ने अपने पत्रांक 4 दिनांक 20 मार्च 2010 को जारी र्पिोट में कहा है कि तत्कालीन सिविल सर्जन ने दिसंबर 2009 तथा जनवरी 10 में बिना स्थापना समिति की बैठक किये स्वास्थ्य कर्मियों का स्थानांतरण और पदस्थापन किया। साथ ही उक्त स्थानांतरण पदस्थापन में तत्कालीन सीएस के द्वारा अपने से उपर के अधिकारी (आरडीडी) से अनुमोदन प्राप्त नहीं किया गया है।आरडीडी ने इन्हीं तीन र्पिोट के आधार पर अवैध व अनियमित नियुक्ति के साथ-साथ स्वास्थ्यकर्मियों के ट्रांसफर पोस्िंटग को रद्द कर दिया है। आरडीडी डा. महेश प्रसाद ने हिन्दुस्तान को बताया कि नियुक्ति तथा ट्रांसफर पोस्टिंग रद्द करने का आदेश सिविल सर्जन को भेज दिया गया है। उन्होंने बताया कि अवैध रूप से एएनएम की नियुक्ति के मामले में अगली कार्रवाई के लिए स्वास्थ्य सचिव को पत्र भेजा गया है। उनसे प्राप्त निर्देशों के आलोक में अगली कार्रवाई की जाएगी। डा. प्रसाद ने बताया कि पूर्व सिविल सर्जन डा. अजय प्रताप ने उन्हें बताया है कि ट्रांसफर पोस्िंटग उन्होंने जिला स्वास्थ्य समिति के गर्वनिंग बॉडी के निर्देशों के आलोक में की थी। जबकि एएनएम नियुक्ति प्रकरण में उनके जाली हस्ताक्षर का इस्तेमाल साजिश के तहत किया गया। उल्लेखनीय है कि वर्तमान सिविल सर्जन डा. दीनबंधु शर्मा ने 13 मार्च 2010 को पूर्व सिविल सर्जन डा. अजय प्रताप से जवाब तलब किया था। जिसके जवाब में डा. प्रताप में कई सनसनीखेज खुलासा किया था। इस संदर्भ में आरडीडी ने स्वीकार किया कि तमाम आरोप-प्रत्यारोप से बचते हुए विभागीय सचिव से आवश्यक दिशा निर्देश की मांग की गई है। आरडीडी की इस कार्रवाई से विभाग में बैचेनी छाई हुई है। सिविल सर्जन डा. शर्मा ने आरडीडी का पत्र मिलने की पुष्टि करते हुए बताया कि प्राप्त आदेश के आलोक में कार्रवाई की जा रही है। इधर जननी बाल सुरक्षा योजना के रूपये भुगतान में अनियमितता का भंडाफोडम् ऑडिट र्पिोट में किये जाने तथा हिन्दुस्तान में समाचार प्रकाशित होने के बाद सदर प्रखंड के लेखापाल का ट्रांसफर परबत्ता किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:स्वास्थ्य विभाग में नियुक्ति व ट्रांसफर पोस्टिंग रद्द