DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ैछात्रों को दिखाया गया बाहर का रास्ता

पटना कॉलेज के हॉस्टलों में की गयी तालाबंदी62 कमरों में जड़ा गया तालाप्राचार्य के मौजूदगी में चला अभियानहिन्दुस्तान प्रतिनिधिपटना। हॉस्टलों में लगातार बढ़ते अपराधिक घटनाओं को देखते हुए पटना कॉलेज प्रशासन ने शनिवार को सभी हॉस्टलों में अभियान चलाकर कमरों में ताला जड़ा दिया। पटना कॉलेज के स्नातक स्तर के हॉस्टलों से छात्रों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। हॉस्टल खाली करने में पहले तो कुछ छात्रों ने आनाकानी की पर पुलिस के आगे उनकी एक नहीं चली। पुलिस और कॉलेज प्रशासन ने सभी छात्रों को हॉस्टल से बाहर कर दिया। जैक्सन हॉस्टल में प्राचार्य के अनुमति के बाद दो दिन और रहने की अनुमति दी गयी। इकबाल हॉस्टल, मिंटो, जैक्सन के पार्ट वन और पार्ट थ्री छात्रों को खाली करा दिया गया है। पार्ट टू के छात्रों की परीक्षा जारी रहने की वजह से आठ अप्रैल तक उन्हें हॉस्टल में रहने की अनुमति दी गयी है। तीन दिन पहले जैक्सन हॉस्टल में हुई गोलीबारी की घटना के बाद विश्वविद्यालय प्रशासन के आदेश पर कॉलेज के प्राचार्य डा. लालकेश्वर प्रसाद ने हॉस्टल खाली करा कमरों में ताला जड़ दिया है। इकबाल व मिंटो के भी चार-पांच छात्रों को दो दिनों के लिए हॉस्टल में रहने की अनुमति दी गयी है। हॉस्टल खाली कराने में लेट होने की वजह से न्यू हॉस्टल को शनिवार को खाली नहीं कराया जा सका। पटना कॉलेज के प्राचार्य डा. लालकेश्वर प्रसाद ने बताया कि ग्यारह बजे दिन से हॉस्टल खाली कराने का काम शुरू कर दिया गया था। सबसे पहले जैक्सन हॉस्टल के छात्रों का कमरा खाली कराया गया। तीन हॉस्टलों में कुल 62 कमरों में ताला जाड़ा गया। पार्ट टू के छात्रों की परीक्षा जारी होने की वजह से उन्हें 8 अप्रैल तक रहने की इजाजत दी गयी है। गुंडागर्दी करने वाले किसी छात्र को हॉस्टल में नहीं रहने दिया जाएगा। न्यू हॉस्टल को जल्द खाली कराया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ैछात्रों को दिखाया गया बाहर का रास्ता