DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रेकडाउन व ट्रिपिंग से कई इलाके हलकान ओवरलोड से हांफ

कार्यालय संवाददातापटना।बिजली की आनी-जानी बढ़ गयी है। इसकी वजह तेज गर्मी बतायी जा रही है। तेज गर्मी से बिजली की मांग बढ़ गयी है। हर घर में कुछ न कुछ लोड बढ़ रहा है। खासकर पश्चिमी इलाके में एयरकंडीशनरों के चलने से बिजली की खपत भागने लगी है। नतीजतन कई फीडर व ट्रांसफार्मर हांफने लगे हैं। कभी ट्रिपिंग तो कभी ब्रेकडाउन। इसके चलते खगौल वन व टू फीडर से जुड़े इलाकों में लोगों को बेवजह बिजली की किल्लत ङोलनी पड़ जा रही है। पिछले छह दिन में खगौल वन व टू फीडर चार बार ब्रेकडाउन कर गया। इसमें दो बार केबल के क्षतिग्रस्त होने से खगौल वन फीडर ब्रेकडाउन किया तो एक बार हरनीचक में तार टूटने। खगौल टू भी जंफर कटने से कई घंटों तक ब्रेकडाउन में रहा। पिछले साल भी खगौल ग्रिड से जुड़े इलाकों में ओवरलोडिंग के चलते काफी परेशानी हो गयी थी। उधर गायघाट व मीठापुर ग्रिड भी फतुहा ग्रिड की खराबी के चलते कई घंटों तक ठप रह गया। गायघाट ग्रिड तार टूटने व जंफर कटने से कुछ घंटे के लिए ठप पड़ गया था। पेसू ईस्ट के एसई जेपीएन सिंह के मुताबिक जिन जगहों पर तार टूटे थे वहां दो से तीन दिन में सारे तार बदल दिये जाएंगे। पेसू के अभियंता यह तो स्वीकार करते है’ कि लोड बहुत बढ़ गया है पर दावा है कि इस बार तैयारी पुख्ता है। ओवरलोडिंग की समस्या से दिक्कत नहीं होगी पर ब्रेकडाउन पर तो बस नहीं है। जानकारी के मुताबिक खगौल वन व टू फीडर पर बहुत अधिक लोड बढ़ गया है। लोड 500 एम्पीयर तक भाग जा रहा है। खगौल 3 व 4 फीडर में भी लोड 380 एम्पीयर तक चला जाता है। नार्मल स्थिति 350 मेगावाट है। इससे अधिक लोड होते ही ट्रिपिंग की समस्या होने लगती है। ---------------------------------------------------------------------------हर घर का लोड कुछ न कुछ बढ़ गया है। इससे परेशानी हो रही है पर फिलहाल स्थिति नियंत्रित है। खगौल वन व टू फीडर भी अभी ठीकठाक है। ब्रेकडाउन की समस्या हुई है पर उसे तत्काल दुरुस्त कर लिया गया।सीएल प्रकाश, जीएम पेसू पटना। ------------------------------------------------------------------------

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ब्रेकडाउन व ट्रिपिंग से कई इलाके हलकान ओवरलोड से हांफ