DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ऐसे तो बिजली उजाला नहीं अँधेरा लाएगी घरेलू बिजली महँगी होने

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में बिजली की दरों में की गई करीब 13 फीसदी की औसत बढ़ाेतरी से आम जनता पर बोझ बढ़ गया है। कमजोर वर्ग से लेकर आलीशान मकानों में रहने वाले लोगों के लिए दिक्कतें खड़ी हो गई हैं। जनता ने ‘हिन्दुस्तान’ से कहा कि पहले से ही महँगाई ने कमर तोड़ दी और अब ये बढ़ी दरें उजाला नहीं अँधेरा लाएँगी।आशियाना में रहने वाले जसपाल सिंह ने भी कहा कि 20 प्रतिशत बिजली महँगी होने से बोझ बढ़ जाएगा। आय का साधन बढ़ाने की जगह सरकार आम जनता की जेब खाली करने में लगी हुई है। उदयगंज में रहने वाले नसीर अहमद ने इसे सरकार का गलत कदम बताया है। उन्होंने कहा कि उनके क्षेत्र में सबसे ज्यादा बिजली की समस्या है। बिजली की व्यवस्था सुधारने की जगह सरकार आम जनता को परेशान करने के लिए उसके दाम बढ़ाने में लगी है जो उनकी नजर में गलत है। कपड़ा व्यवसाई संजय अग्रवाल ने कहा कि पहले ही महँगाई ने आम जनता की कमर तोड़ दी है। ऐसे में राज्य विद्युत नियामक आयोग की ओर से बिजली दरों में की गई बढ़ाेत्तरी आम जनता के जीवन में अंधेरा कर देगी। एलडीए कॉलोनी में रहने वाले एचएस मल्होत्रा ने कहा कि दिन भर बिजली की कटौती मुसीबत है ऊपर से दिन पर दिन इसके दाम बढ़ते जाने से आम उपभोक्ता परेशान हो चुका है। सतबीर सिंह राजू ने कहा कि बिजली दरों में अचानक की गई बढ़ाेत्तरी से वह हैरान हैं। एक तरफ सरकार महँगाई को कम करने का दावा करते नहीं थक रही है और दूसरी तरफ जनता की आवश्यकता वाली हर चीज के दामों में इजाफा करती जा रही है। अर्जुनगंज में रहने वाली रतना और कल्पना ने कहा कि पहले तो बिजली विभाग को बिजली आपूर्ति और बिजली की दिक्क्तों से निपटने का इंतजाम करना चाहिए। आम जनता को पूरे दिन बिजली मिले इसकी व्यवस्था करनी चाहिए। आम जनता को सुविधा देने के बाद उसको बिजली को महंगा करने का निर्णय लेना चाहिए। राजाजीपुरम में रहने वाले आलोक पटेल ने भी कहा कि सरकार को गरीब जनता के दर्द का बिलकुल अहसास नहीं रह गया। वह अपना फायदा देखने में लगी है। यही कारण है कि हर रोज वह ऐसे फैसले कर रही है जिससे आम जनता परेशान हो रही है। प्रस्तुति: पल्लव शर्मा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: ऐसे तो बिजली उजाला नहीं अँधेरा लाएगी घरेलू बिजली महँगी होने