DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुजारी से कहें प्रसाद में भेदभाव न करे: ललन दिलजले का

पटना (हि.ब्यू.)। सांसद राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह ने कहा कि दिल जलने का अनुभव शिवानंद तिवारी से अधिक किसे होगा? दिल जला तो उधर चले गए और वहां दिल जला तो इधर आ गए। इस मामले में उनसे अधिक अनुभवी नेता दूसरा कौन होगा। उनका तो 24 वर्षो में कभी दिल नहीं जला और जहां तक बताशा के लिए मंदिर तोड़ने की बात है तो मंदिर तोड़ने वाले दूसरे लोग हैं। उन्हें तो कभी बताशा की चाहत नहीं रही और न कभी रहेगी। श्री सिंह ने कहा कि बंटाईदारी मुद्दा है और बिहार की जनता इसका निराकरण चाहती है। इसे सामान्य तरीके से खारिज नहीं किया जा सकता। मुद्दा है तो सवाल उठेंगे ही। उन्होंने श्री तिवारी का बगैर नाम लिए उन्हें सुझाव भी दिया और कहा कि अगर वे सही मायने में मंदिर को शुद्ध करना चाहते हैं तो पुजारी से कहें कि वह प्रसाद वितरण में भेदभाव न करे। भेदभाव होगा तो उंगली उठेंगे ही। 24 वर्षो में तो बताशा के लिए उनकी आह तक नहीं निकली। वे उनकी (शिवानंद तिवारी) काफी इज्जत करते हैं। वे अपने अनुभव का फायदा उठाएं। इसके लिए शुभकामना भी है लेकिन इसका बेजा लाभ न उठाएं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: पुजारी से कहें प्रसाद में भेदभाव न करे: ललन दिलजले का