DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

एबीवीपी के बिहार बंद का मिला जुला असर पटना विश्वविद्यालय में

िहन्दुस्तान प्रितिनिधपटना। अिखल भारतीय िवद्यार्थी पिरषद के िबहार बंद का िमला-जुला असर देखा गया। राजधानी में बंद का कोई खास असर नहीं िदखा। हालांकि िशक्षण संस्थानों के आसपास का माहौल गर्म रहा। दूसरी तरफ एबीवीपी ने बंद को सफल बताया है। अलीगढ़ मुिस्लम यूिनविर्सटी की शाखा किशनगंज में खोलने व िवधानसभा घेराव के दौरान िनर्दोष छात्रों पर हुए हमले के िखलाफ एबीवीपी द्वारा अहूत िबहार बंद में अपार जनसमर्थन िमलने का दावा किया गया है। एबीवीपी ने कहा के पुिलस प्रशासन की चाक-चौबंद व्यवस्था ने आपातकाल की याद ताजा कर दी। एबीवीपी ने दावा किया कि िबहार बंद के दौरान सूबे के 50 हजार से अिधक कार्यकर्ता सड़क पर उतरे। 200 से अिधक स्थानों पर लाठीचार्ज किया गयाजिंसमें पटना िविव के संगठन मंत्री उमाशंकर भारती के हाथ पर गहरी चोट आयी है। वहीं मुजफ्फरपुर में दूसरे छात्र गुट के सदस्य बंद करा रहे कार्यकर्ताओं से िभड़ गए। इसमें संभाग प्रमुख मुकुल शर्मा के सर पर गहरी चोट आयी है। बंद के दौरान 10 हजार से अिधक कार्यकर्ता िगरफ्तार किए गए। लगभग दो हजार छात्र घायल हुए। 500 स्थानों पर सार्वजिनक दुकान-प्रितष्ठान और वाहनों का पिरचालन पूर तरह बंद रहा। िवद्यार्थी पिरषद के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. रामनरेश िसंह, राष्ट्रीय मंत्री रामाशंकर िसन्हा, प्रदेश संगठन मंत्री गोपाल शर्मा, प्रदेश सहमंत्री िनिखल रंजन, प्रदेश सहमंत्री आिदत्य कुमार, अरिवंद पटेल बलपूर्वक िगरफ्तार किए गए। पटना िवश्विवद्यालय के पटना कॉलेज से सुबह 10 बजे जैसे ही छात्रों का जुटान शुरू हुआ, पूरे इलाके को पुिलस ने अपने कब्जे में ले िलया। इससे छात्रों के प्रदर्शन का मंसूबा कामयाब नहीं हो सका। हालांकि डाकबंगला चौराहा पर लगभग 50 छात्र पहुंचने में कामयाब रहे और उन्होंने वहां िगरफ्तारी दी। क्षेत्रीय संगठन मंत्री िदनेश कुमार ने कहा कि धमकी के बावजूद छात्र सड़क पर उतरे और उन्होंने सरकार के नापाक मंसूबों पर पानी फेर िदया। उन्होंने कहा कि सरकार अगर एएमयू की शाखा खोलने के िनर्णय को वापस नहीं लेती है तो िवद्यार्थी पिरषद आंदोलन तेज करेगी। प्रदेश में हस्ताक्षर अिभयान व जनजागरण अिभयान चलाया जाएगा। इधर भाजपा िवधायक अरुण कुमार िसन्हा और नीितन नवीन ने भी बंद को सफल बताया है और इसके िलए छात्रों व आम जनता को बधाई दी है। उन्होंने कहा कि किशनगंज में अलीगढ़ मुिस्लम िवश्विवद्यालय की शाखा का िवरोध किसी धर्म िवशेष मामला नहीं है बिल्क यह राष्ट्र कह सुरक्षा से जुड़ा मामला है। राज्य सरकार को इसकी गंभीरता को समझना चािहए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: एबीवीपी के बिहार बंद का मिला जुला असर पटना विश्वविद्यालय में