DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छह माह में बदले 15 अधिकारी आंदोलन की भेंट चढ़े परीक्षा

िहन्दुस्तान प्रितिनिधपटना। मगध िवश्विवद्यालय की कहानी भी अजीब है। छात्रों का हंगामा है कि खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। कर्मचािरयों की हड़ताल लगातार जारी है और दोष अिधकािरयों के िसर मढ़ा जा रहा है। स्नातक प्रथम व िद्वतीय वर्ष के िरजल्ट में गड़बड़ी के मामले में दोषी पाए गए अिधकािरयों को िविव प्रशासन द्वारा िपछले िदनों हटाया गया था। लेकिन एक बार िफर नयी टीम गिठत की गयी है। इस टीम में एक बार िफर पुराने चेहरे िदखाई दे रहे हैं। िपछले छह माह में जब से स्नातक प्रथम व िद्वतीय खंड का िरजल्ट िनकला है मगध िवश्विवद्यालय का शाखा कार्यालय लगातार हंगामे से जूझता रहा है। हंगामे व लगातार पदािधकािरयों के बदले जाने के बावजूद िविव प्रशासन इन छात्रों की मांगों पर िरजल्ट प्रकाशन की प्रकिया को पूरा नहीं कराया जा सका है। मगध िवश्विवद्यालय में स्नातक प्रथम व िद्वतीय खंड के िरजल्ट में अिधकांश छात्रों को गड़बड़ िरजल्ट िदया गया था। इसको लेकर छात्रों का जबर्दस्त प्रदर्शन हुआ। पटना में हुए तीव्र आंदोलन के बाद िविव प्रशासन ने एक तीन सदस्यीय कमेटी गिठत की और उसने परीक्षा िवभाग को पूरे मामले के िलएजिंम्मेदार ठहराया। साथ ही उन्होंने िरजल्ट के िफर से प्रकाशन की अनुशंसा की। इस कमेटी की अनुशंसा पर दो फरवरी को तत्कालीन परीक्षा िनयंत्रक डा. केके नारायण व संयुक्त परीक्षा िनयंत्रक डा. राधेकांत प्रसाद को हटा िदया गया था। उनके स्थान पर डा. सुशील कुमार िसंह को नया परीक्षा िनयंत्रक, डा. कुमार शैलेंद्र को संयुक्त परीक्षा िनयंत्रक व डा. बालेश्वर प्रसाद भारती को सहायक िनयंत्रक बनाया गया था। डा. कुमार शैलेंद्र को स्नातक स्तर की परीक्षा कीजिंम्मेदारी सौंपी गयी थी। जब वे परीक्षा की त्रुिटयों को दूर कर पाने में सफल नहीं हुए तो बुधवार को उन्हें उनके कार्य से हटा िदया गया। उनके स्थान पर िविव प्रशासन ने एक बार िफर डा. राधेकांत प्रसाद की िनयुिक्त की है। छात्रों का कहना किजिंस पदािधकारी को दागी बताकर िविव प्रशासन ने छुट्टी कर िदया था उन्हें दोबारा िनयुक्त कर किस प्रकार का संदेश देना चाह रहा है। कुलपित व कुलसिचव ने भरोसा िदलाया था कि छात्रों की परेशानी दूर की जाएगी लेकिन छह माह बीतने के बावजूद छात्रों की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। वहीं छात्रों की परेशानी को देखते हुए पटना िविव के ओएसडी व परीक्षा िवभाग के 12 पदािधकािरयों को भी िविव प्रशासन ने िपछले िदनों हटा िदया था। अब िविव प्रशासन छात्रों की परेशानी को दूर कर पाने में सफल हो सकेगा या नहीं, इस संबंध में शीघ्र िनर्णय िलया जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: छह माह में बदले 15 अधिकारी आंदोलन की भेंट चढ़े परीक्षा