बरेली दंगों की न्यायिक जाँच की माँग उठी - बरेली दंगों की न्यायिक जाँच की माँग उठी DA Image
13 नबम्बर, 2019|12:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बरेली दंगों की न्यायिक जाँच की माँग उठी

कांग्रेस के राशिद अल्वी ने कहा-उन्हें बरेली जाने से रोका गया, सपा ने प्रदेश सरकार पर किया प्रहार विशेष संवाददाता नई दिल्लीबरेली में दंगों की गूँज मंगलवार को राज्यसभा में सुनाई दी। सपा और कांग्रेस ने दंगों के बाद वहाँ शांति स्थापना में देरी पर राज्य सरकार को आड़े हाथों लिया। दोनों पार्टियों ने कहा कि बरेली की स्थिति अभी भी खराब है। केंद्र सरकार हस्तक्षेप कर उचित कदम उठाए। शून्यकाल के दौरान सपा के रामगोपाल यादव ने यह मामला उठाया। उन्होंने कहा कि दो मार्च से बरेली की स्थिति खराब है और राज्य के कई मंत्री और अधिकारी रैली में व्यस्त हैं। कर्फ्यू के कारण स्थिति यह है कि बच्चों को दूध नहीं मिल पा रहा है और मरीजों को दवा। उन्होंने माँग की कि केंद्र स्थिति की जानकारी लेकर सदन को अवगत कराए। भाजपा के विनय कटियार ने भी इस मुद्दे पर बोलना चाहा, लेकिन सभापति ने अनुमति नहीं दी। कांग्रेस के राशिद अल्वी ने कहा कि बरेली में 15 दिनों से कर्फ्यू लगा है। वह मंगलवार सुबह बरेली जा रहे थे, लेकिन उन्हें बरेली के डीएम के आदेश पर गाजियाबाद में ही गिरफ्तार कर लिया गया। अल्वी ने कहा कि दंगे की न्यायिक जाँच होनी चाहिए। सदन में भाजपा के उपनेता एस एस अहलूवालिया ने भी इस मामले को उठाया। उन्होंने इसे अत्यन्त दुर्भाग्यपूर्ण घटना बताते हुए कहा कि दंगे में सिखों की दुकानें भी जला दी गईं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: बरेली दंगों की न्यायिक जाँच की माँग उठी