अंतिम रूप से संशोधित---बसपा की महारैली के लिए राजधानी में - अंतिम रूप से संशोधित---बसपा की महारैली के लिए राजधानी में DA Image
15 नबम्बर, 2019|12:07|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अंतिम रूप से संशोधित---बसपा की महारैली के लिए राजधानी में

देश भर से जुटे लोगयूपी, एमपी, राजस्थान, प. बंगाल, उड़ीसा, झारखंड, गुजरात, छत्तीसगढ़, आंध्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, पंजाब, दिल्ली, हरियाणा, कश्मीर, हिमाचल, महाराष्ट्र, उत्तराखंड, बिहारचित्र परिचय : बसपा संस्थापक कांशीराम की जयंती पर आयोजित पार्टी की महारैली के लिए लखनऊ में जुटा सर्वजन समाज फोटो : विनय पांडेयहिन्दुस्तान टीमलखनऊबसपा की स्थापना के 25 साल पूरे हो गए। इसके उपलक्ष्य में पार्टी संस्थापक स्व. कांशीराम के जन्मदिन पर सोमवार को लखनऊ में पार्टी की महारैली हो रही है। इसकी सारी तैयारियाँ हो गई हैं। महारैली सफल बनाने के लिए बसपा के ‘जिम्मेदार’ हर पहलू पर बारीक नजर रख रहे हैं। सर्वजन समाज के रुकने का उम्दा इंतजाम किया गया है। हर वैरायटी के व्यंजनों की उत्तम व्यवस्था है। किसी कार्यकर्ता का सिर तक न दुखे, इसके लिए रेलवे स्टेशन से लेकर रैली स्थल तक डॉक्टरों की पूरी टीम मुस्तैद है। दस हजार पुलिस के जवान लगाए गए हैं। अधिकारी मीटिंग पर मीटिंग कर रहे हैं। हर गतिविधि कैद करने के लिए सीसीटीवी कैमरे कई जगह लगाए गए हैं। बाहर से आने वाले कार्यकर्ताओं को लखनऊ के दीदार कराने का इंतजाम भी है। स्मृति उपवन में राज्यवार पंडाल बनाए गए हैं। इन पंडालों में राज्यवार लोगों को ठहराया गया है। दूसरे राज्यों व प्रदेश के जिलों से आने वाले लोगों का जमावड़ा महारैली स्थल रमाबाई अंबेडकर मैदान, अंबेडकर स्मारक, प्रेरणा केंद्र, कांशीराम स्मारक में लगा है। राजधानी में चारों ओर बसपा का नीला चटख रंग दिख रहा है। नीली झालरों, महापुरुषों के बड़े-बड़े होर्डिग्स-कटआउट से लेकर फौव्वारों का पानी तक नीली छटा बिखेर रहा है। दूसरे राज्यों से आने वाले पार्टी कार्यकर्ता भारी संख्या में शनिवार से लखनऊ पहुँचने शुरू हो गए। जींस, टी-शर्ट पहने व डिजाइनर कैप लगाए ये कार्यकर्ता अम्बेडकर व कांशीराम को याद कर गर्व का अहसास करते हैं। उनके स्मारक देख फूले नहीं समाते हैं। मायावती को प्रधानमंत्री बनाने की बात करते हैं। दलित महापुरुषों की तस्वीरों वाली ये टी-शर्ट जरूर पहने हैं, और आम आदमी से पीछे के पायदान पर नहीं दिखते हैं। जमाने के साथ कदम से कदम मिला रही महिलाएँ भी अपनी बात बेबाकी से कहती हैं। बच्चों भी आए हैं, जो पिकनिक मनाने में लगे हैं। महारैली में आने वालों से लेकर विपक्षी दलों तक सबकी निगाहें बसपा मुखिया मायावती के महारैली में दिए जाने वाले संदेश पर लगी हैं। कयास लगने लगे हैं कि बसपा मुखिया किस पर पलटवार करेंगी? बसपा कोआर्डिनेटर व राज्य सरकार के मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी, बाबू सिंह कुशवाहा व प्रदेश अध्यक्ष स्वामी प्रसाद मौर्य ने रविवार को कई बार रमाबाई अंबेडकर मैदान जाकर तैयारियों का जायजा लिया। पार्टी मुखिया मायावती ने देर शाम जाकर बाहर से आए लोगों से मुलाकात की और कल की तैयारियाँ देंखी। पार्टीजनों के उत्साह और एक दिन पहले ही यहाँ आ गई भीड़ को देखकर लग रहा है कि बसपा इस बार रैली में भीड़ के अपने पुराने सारे रिकार्ड ध्वस्त कर देगी।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: अंतिम रूप से संशोधित---बसपा की महारैली के लिए राजधानी में