जूनियर महिला हॉकी खिलाड़ियों का सम्मान - जूनियर महिला हॉकी खिलाड़ियों का सम्मान DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जूनियर महिला हॉकी खिलाड़ियों का सम्मान

भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने हाल ही में हुए एशिया कप में रजत पदक जीतने वाली जूनियर महिला हॉकी टीम के सदस्यों को सोमवार को सम्मानित किया।
 
वर्ष 2008 में महिला टीम को कांस्य पदक मिला था। इस वर्ष फाइनल में चीन से 2-5 से हुई हार के कारण भारतीय टीम को रजत से ही संतोष करना पड़ा। भारतीय महिला टीम रजत के साथ साथ अगले वर्ष होने वाले जूनियर महिला विश्वकप का टिकट कटाने में भी सफल रही है।
 
साई के कार्यवाहक महानिदेशक एवं सचिव गोपाल कृष्ण ने खिलाड़ियों को उनकी उपलब्धि के लिए बधाई देते हुए कहा कि उनके अथक प्रयास में साई भी मदद करेगा। उन्होंने बताया कि बेंगलूरु और भोपाल स्थित साई के प्रशिक्षण केंद्र पर एस्ट्रो टर्फ बनाया जाएगा।
 
टीम के कोच एन एस सैनी ने कहा कि कई तरह की कमी होने के बावजूद सभी लड़कियों ने अच्छा प्रदर्शन किया। दवाब में आने पर या पेनल्टी कॉर्नर में स्कोर बनाने में मुश्किल थी। सैनी ने कहा कि इस टीम में कुछ उम्दा खिलाड़ी हैं जो अभी काफी आगे बढ़ेंगे। कप्तान रितू रानी, पूनम रानी, सुशीला चानू और निक्की प्रधान ने काबिलेतारीफ प्रदर्शन किया।
 
कोच ने कहा कि जूनियर खिलाड़ियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खेलने के अनुभव की सख्त जरूरत है। टीम के सहायक कोच प्रीतम सिवाच ने कहा कि फाइनल में हुई बारिश की वजह से भारत की जीत की उम्मीद धुल गई थी। बारिश के पहले भारत 2-0 से आगे था लेकिन उसके बाद यह रनर अप टीम बनकर रह गई। बारिश के बाद मैदान पर दौड़ना मुश्किल हो गया था।
 
कप्तान रितू ने भी कहा कि बारिश की वजह से उन्हें मैच हारना पड़ा। टूर्नामेंट केपहले तीन महीने का शिविर भी कुछ ज्यादा ही अवधि का था। अगर यह शिविर कम दिनों का होता तो टीम के लिए ज्यादा अच्छा होता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जूनियर महिला हॉकी खिलाड़ियों का सम्मान