DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

60 फीसदी रूसी नागरिकों ने माना पुतिन की जीत निष्पक्ष

सरकारी नियंत्रण वाले एक मत सर्वेक्षक ने कहा है कि रूस के 60 फीसदी लोगों ने चार मार्च के राष्ट्रपति चुनाव को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष माना है। इस चुनाव में व्लादमीर पुतिन तीसरी बार राष्ट्रपति चुने गए हैं।

लेकिन आल-रुशियन पब्लिक ओपिपियन रिसर्च सेंटर द्वारा कराए गए इस सर्वेक्षण में हिस्सा लेने वाले 1,600 लोगों में से 21 प्रतिशत ने कहा कि चुनाव न तो स्वतंत्र था न ही लोकतांत्रिक।

समाचार एजेंसी आरआईए नोवोस्ती के अनुसार, राष्ट्रपति चुनाव के प्रथम दौर में पुतिन की जीत पर मतदान में धांधली और सरकारी मीडिया के दुरुपयोग के आरोप लगाए गए थे। ऑर्गनाइजेशन फॉर सिक्युरिटी एंड को-ऑपरेशन इन यूरोप के पर्यवेक्षकों ने कहा कि मतदान स्पष्ट रूप से पुतिन के पक्ष में मोड़ा गया था।

रूस के निर्वाचन प्रमुख व्लादमीर चुरोव ने इस चुनाव को दुनिया का सबसे स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी बताया। लेकिन क्रेमलिन की मानवाधिकार परिषद के तीन सदस्यों ने सोमवार को इस चुनाव को वैध मानने से इंकार कर दिया।

सोमवार को स्वतंत्र मत सर्वेक्षक, लेवादा सेंटर द्वारा जारी किए गए एक अन्य सर्वेक्षण में संकेत दिया गया है कि केवल आठ प्रतिशत लोगों ने माना है कि वर्तमान रूस में सही लोकतंत्र बचा हुआ है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:60 फीसदी रूसी नागरिकों ने माना पुतिन की जीत निष्पक्ष