DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शेहला हत्याकांड में कानपुर से एक और गिरफ्तारी

भोपाल की आरटीआई कार्यकर्ता शेहला मसूद हत्याकांड मामले में कानपुर से गिरफ्तार किया गये आरोपी इरफान के सहयोगी माने जाने वाले ताबिश को सोमवार सुबह उत्तर प्रदेश एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार किया है।
    
उत्तर प्रदेश एसटीएफ के क्षेत्राधिकारी त्रिवेणी सिंह ने बताया कि शेहला हत्याकांड में जांच के दौरान गिरफ्तार किये इरफान से पूछताछ के बाद आज तड़के इरफान के दोस्त ताबिश को बेकनगंज स्थित उसके घर के पास से गिरफ्तार किया है। ताबिश को एसटीएफ की टीम लखनउ लेकर जा रही है जहां उससे विस्तत पूछताछ होगी।
    
उन्होंने बताया कि इससे पहले कल रात एसटीएफ की टीम ने ताबिश के तलाक महल स्थित घर पर छापा मारा था, जहां उसकी पत्नी, बच्चों और उसका छोटा भाई दानिश मिला था। दानिश को एसटीएफ की टीम कोतवाली ले आई थी, जहां पूछताछ में उसने ताबिश के छिपने का ठिकाना बता दिया, जिसके आधार पर आज सुबह करीब पांच बजे ताबिश को एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार कर लिया। अब उसे लेकर लखनऊ ले जाया जा रहा है, जहां उससे सीबीआई की टीम पूछताछ करेंगी और बाद में उसे अदालत में पेश किया जायेगा।
    
एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि शेहला मसूद हत्याकांड में पहले पकड़े गये इरफान से पूछताछ के दौरान पता चला था कि ताबिश इरफान का दोस्त है और उसके पिता मतीन भी पुराने जमाने के हिस्ट्रीशीटर रहे है। जानकारी मिली थी कि इरफान को हथियारों की आपूर्ति ताबिश ही करता था।
    
एसटीएफ सूत्रों ने बताया कि कल देर रात तक ताबिश की तलाश में मतीन के घर की तलाशी ली गयी थी लेकिन वहां ताबिश नहीं मिला था।
    
गौरतलब है कि 27 फरवरी की देर रात शेहला मसूद हत्याकांड में शामिल इरफान को बेकनगंज के तलाक महल इलाके से उत्तर प्रदेश एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार किया था और बेकनगंज थाने में उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी। गिरफ्तारी के समय उसके पास से एसटीएफ को एक देशी पिस्तौल और कारतूस भी मिले थे।
     
इरफान अपराधी प्रवृत्ति का था और उसके खिलाफ बेकनगंज पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 307, 332, 353 तथा एनडीपीएस एक्ट, एक्साइज एक्ट तथा गैंगस्टर जैसे आधा दर्जन से अधिक मुकदमें दर्ज है और वह कई बार जेल जा चुका है।
     
इरफान ने पूछताछ में बताया था कि उसके साथ शेहला हत्याकांड में शहर का शानू ओलंगा और सलीम भी शामिल था। इस हत्याकांड की सुपारी शानू ओलंगा को भोपाल में किसी ने दी थी। शानू के कहने पर वह और सलीम 10 अगस्त को भोपाल पहुंचे थे। इस काम के लिये तीन लाख रुपये दिये जाने की बात कही थी, लेकिन केवल दो लाख रुपये ही दिये गये बाकी रकम बाद में देने को कहा गया था।
     
इरफान कानपुर की जिला जेल में बंद था, लेकिन सीबीआई की टीम उसे इंदौर की सीबीआई अदालत में पेश करने के लिये आठ मार्च को अपने साथ इंदौर ले गयी थी। इरफान से सीबीआई की पूछताछ में ताबिश का नाम आया था, जिसे आज उत्तर प्रदेश एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार कर अपने साथ लखनऊ ले गई है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:शेहला हत्याकांड में कानपुर से एक और गिरफ्तारी