DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'फिटनेस है दिग्गज खिलाड़ियों का सामना करने का राज़'

विश्व के पूर्व नंबर वन टेनिस खिलाड़ी रोजर फेडरर ने पांचवीं बार दुबई ओपन टेनिस चैंपियनशिप का खिताब जीतने के बाद कहा कि स्वस्थ रहने की बदौलत ही इस उम्र में भी वह नोवाक जोकोविच, राफेल नडाल और एंडी मरे जैसे दिग्गज खिलाड़ियों का सामना कर पाते हैं।
 
अमेरिका के पीट सम्प्रास के 14 ग्रैंड सलेम के रिकॉर्ड को तोड़ने वाले स्विट्जरलैंड के फेडरर ने अपने करियर का 72वां खिताब जीतने के बाद कहा कि मैंने अपने करियर में जीतने मैच खेले हैं आप अगर उन पर गौर करें तो पाएंगे कि कोई भी खिलाड़ी बिना फिट रहे इतनी संख्या में मैच नहीं खेल सकता है। मैंने लगातार मैच खेला है।
 
स्विट्जरलैंड के फेडरर ने कहा कि मुझे लगता है कि अगर मैं अच्छा प्रदर्शन करना चाहता था और मैच जीतना चाहता था तो डेविस कप और यू एस ओपन के बाद जो मैंने छह हफ्ते का आराम लिया था वह बहुत जरूरी था। यह एक अच्छा निर्णय था।
 
उन्होंने कहा कि मैं पिछले वर्ष शंघाई नहीं जा पाया इसके लिए आज भी दुखी हूं क्योंकि वहां बहुत ही रोमांचक मुकाबला था लेकिन शायद वहां न जाना मेरे लिए बेहतर ही हुआ।

तीसरी वरीयता प्राप्त ब्रिटेन के एंडी मरे को हराकर खिताब पर कब्जा जमाने वाले फेडरर ने कहा कि मुझे लगता है कि इस टूर्नामेंट में मैंने अच्छा प्रदर्शन किया है। मुझे जीतने का भरोसा था और मैं इस बार बचाव नहीं कर रहा था बल्कि आक्रामकता से खेल रहा था। मुझे अपनी योग्यता पर संदेह नहीं था।

उन्होंने कहा कि दरअसल फ्रेंच ओपन खेलने के दौरान और बाद में विम्बलडन के समय में मुझे ऐसा लगने लगा था कि मेरा आत्मविश्वास लौट आया है जबकि मैं मैच हार रहा था। लेकिन उस समय भी मुझे यह भरोसा था कि मैं अच्छा खेल रहा हूं। इस जीत ने अब यह साबित कर दिया कि मैं सही दिशा में बढ़ रहा था।
 
फेडरर के हाथों 7-5, 6-4 से हारकर खिताब गंवाने वाले ब्रिटेन के एंडी मरे का मानना है कि अगर दुबई जैसी फास्ट सर्विंग वाले कोर्ट पर और भी मैच खेलेजाएं तो फेडरर अगले कुछ सालों में नंबर वन बन सकते हैं।
 
मरे ने कहा कि यहां का कोर्ट फेडरर के अनुकूल है। दरअसल अब बहुत सारे कोर्ट स्लो हैं और फेडरर जैसे बड़ी सर्विस देने वाले खिलाड़ियों के लिए यह कोर्ट प्रतिकूल होते हैं। गौरतलब है कि दुबई ओपन जीतन के कुछ दिनों पहले ही फेडरर ने पिछले दो साल में एक भी ग्रैंड स्लेम न जीतने के पीछे आत्मविश्वास की कमी को जिम्मेदार ठहराया था लेकिन उनके आज के बयान से यह लगता है कि वह निराशा के दौर से उबर चुके हैं और मुकाबले के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'फिटनेस है दिग्गज खिलाड़ियों का सामना करने का राज़'