DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली के 1786 स्कूलों में आग का खतरा बरकरार

राजधानी के 1786 स्कूलों में आग का खतरा बरकरार है। आग से बचाव के पुख्ता इंतजाम नहीं करने वाले स्कूलों की श्रेणी में सरकारी स्कूल हीं नही हैं, बल्कि प्राइवेट स्कूलों को फायर विभाग ने रखा है।

इस बात के मद्देनजर फायर विभाग की टीम ने स्कूलों का दौरा कर उनके उपायों में जिन-जिन खामियों को देखा है, उसे शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए हैं। इसमें से सरकारी स्कूलों (प्रदेश सरकार, एमसीडी, एनडीएमसी, केंद्रीय विद्यायल व नवोदय विद्यालय) की संख्या 1136 है, जबकि फायर विभाग के मानकों पर खरा नहीं उतरने वाले राजधानी के प्राइवेट स्कूलों की संख्या 650 है।

फायर विभाग के आंकड़ों के मुताबिक इसमें से सबसे ज्यादा स्कूल एमसीडी के हैं। इनकी संख्या 645 है, प्रदेश सरकार के स्कूलों की संख्या 449 है, जबकि 35 केंद्रीय विद्यालयों और दिल्ली कैंटोनमेंट बोर्ड द्वारा संचालित 7 स्कूलों को रखा गया है।

फायर विभाग के डायरेक्टर ए.के. शर्मा ने वार्षिक रिपोर्ट कार्ड पेश करते हुए बताया कि इस साल आग के उपायों को लेकर किए गए इंतजामों के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए हमारी टीम ने 4082 सरकारी व प्राइवेट स्कूलों का दौरा किया, इसमें से 2296 स्कूलों को एनओसी दी गई, जबकि 1786 स्कूलों को कमी के बारे में जानकारी देते हुए उसे शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए गए हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दिल्ली के 1786 स्कूलों में आग का खतरा बरकरार