DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

द्रविड़ और उनके चौंकाने वाले रिकॉर्ड

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से आज संन्यास की घोषणा करने वाले राहुल द्रविड़ ने अपने पिछले 16 साल के चमचमाते करियर में काफी रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं जिसमें सबसे शानदार 13288 टेस्ट रन हैं जो क्रिकेट के इतिहास में दूसरे सर्वाधिक कुल रन हैं।
    
द वॉल के नाम से मशहूर द्रविड़ विदेशी सरजमीं पर दूसरे सबसे सफल टेस्ट बल्लेबाज हैं और उन्होंने 53.03 के औसत से 7690 रन बनाए हैं जिससे वह वेस्टइंडीज के ब्रायन लारा और ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग से ऊपर हैं।
    
सचिन तेंदुलकर ही एकमात्र खिलाड़ी जो द्रविड़ से ऊपर हैं जिन्होंने 106 मैचों में 8705 रन बनाए हैं। 39 वर्षीय द्रविड़ का 52.31 का औसत भी शानदार है और वह तेंदुलकर के बाद दूसरे स्थान पर हैं। तेंदुलकर के नाम 188 टेस्ट में 15470 रन हैं।
    
शीर्ष शतकवीरों की सूची में वह 36 सैकड़े लगाकर तेंदुलकर (51), पोंटिंग (42) और कैलिस (41) के बाद हैं। इसके अलावा उन्होंने 63 अर्धशतक भी जमाए हैं। द्रविड़ विदेशी सरजमीं पर शतकों के मामले में 21 सैकड़े से तेंदुलकर से पीछे हैं लेकिन उन्होंने लारा और पोंटिंग को इसमें पछाड़ दिया है। घरेलू सरजमीं पर उन्होंने 51.35 के औसत से 5598 रन बनाए हैं और उनका सर्वश्रेष्ठ 222 रन का रहा है।

द्रविड़ ने पाकिस्तान के खिलाफ सर्वाधिक 270 रन का स्कोर बनाया है और उन्होंने कुछ शानदार यादगार पारियां खेली हैं। लेकिन 2003-04 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड में दोहरा शतक और इसी प्रतिद्वंद्वी टीम के खिलाफ ईडन गार्डन्स में 180 रन की पारियां इस क्रम में काफी ऊपर है।
    
ऑस्ट्रेलिया उनकी पसंदीदा प्रतिद्वंद्वी टीम है, उन्होंने उसके खिलाफ 2000 से अधिक रन बनाए हैं। हालांकि उनका औसत 38.67 के साथ उनके कुल औसत से काफी कम है। इंग्लैंड के खिलाफ द्रविड़ ने 60.93 के औसत से 1950 रन बनाए हैं जबकि वेस्टइंडीज के विरूद्ध उन्होंने 63.80 के औसत से 1978 रन जोड़े हैं।
    
दक्षिण अफ्रीका, पाकिस्तान, श्रीलंका और न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने 1200 रन बनाए हैं। द्रविड़ ने 1996 में लॉर्ड्स में इंग्लैंड के खिलाफ आगाज किया था और तब से 164 टेस्ट मैच खेले हैं। उनके नाम सर्वाधिक टेस्ट कैचों का रिकॉर्ड भी है। उन्होंने 210 कैच लपके हैं जो ज्यादातर स्लिप क्षेत्र में ही लिए गए हैं।
    
उन्होंने पांच दिवसीय प्रारूप में कई रिकॉर्ड अपने नाम किए हैं लेकिन एक दिवसीय क्रिकेट में भी उनकी उपलब्धियां कम नहीं हैं। वनडे में द्रविड़ ने 344 मैचों में 39.16 के औसत से 10,889 रन बनाए हैं। उन्होंने 196 कैच लपकने के अलावा 12 शतक और 83 अर्धशतक जमाए हैं।
    
उन्होंने पिछले साल इंग्लैंड में वनडे क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की थी। टेस्ट सीरीज में तीन शतक के शानदार प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें हैरानी भरा फैसला करते हुए वनडे टीम में चुना गया था। द्रविड़ की अक्टूबर 2005 से सितंबर 2007 तक की कप्तानी में भारत ने वेस्टइंडीज और इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीती थी लेकिन विश्वकप 2007 में टीम का निराशाजनक प्रदर्शन रहा था जब उन्हें टूर्नामेंट के पहले ही राउंड में बाहर होना पड़ा था। उन्होंने 25 टेस्ट और 79 वनडे में टीम की कप्तानी की।
    
द्रविड़ की कप्तानी और ग्रेग चैपल का विवादास्पद कार्यकाल का समय एक ही था, हालांकि इसका असर उनके बल्ले से प्रदर्शन पर नहीं पड़ा और इस दौरान उन्होंने 44.51 के औसत से 1736 रन बनाए। द्रविड़ ने 25 टेस्ट में टीम की अगुवाई की जिसमें टीम ने आठ में जीत दर्ज की और छह में उसे हार का मुंह देखना पड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:द्रविड़ और उनके चौंकाने वाले रिकॉर्ड