DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पंजाब में चुनाव नतीजों को लेकर अनिश्चितता बरकरार

पंजाब में विधानसभा चुनावों के मतदान के बाद एक महीने से अधिक समय तक नतीजों का इंतजार करने वाले नेता मंगलवार को होने वाली मतगणना के परिणामों के लिए अब खुद को तैयार कर रहे हैं। विधानसभा की 117 सीटों के लिए राज्य में गत 30 जनवरी को मतदान हुआ था।

चुनाव में सत्तारूढ़ शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी गठबंधन और विपक्षी पार्टी कांग्रेस दोनों ने अपनी-अपनी जीत का दावा किया है लेकिन वास्तविकता क्या है यह दोनों पक्षों के लिए अनिश्चित है क्योंकि चुनाव में किसी के पक्ष या विरोध की लहर नहीं दिखी।

अनुमान का यह खेल सर्वेक्षण एजेंसियों और समाचार चैनलों के मतदान बाद भविष्यवाणियों से शनिवार को और जटिल हो गया। ज्यादातर चैनलों ने सर्वेक्षण के नतीजों में कांग्रेस को बढ़त मिलते हुए बताया है। लेकिन अकाली दल को सत्ता में दोबारा लौटने का पूरा भरोसा है।

अकाली दल के अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि पिछली बार मतदान बाद सर्वेक्षणों का कोई मतलब नहीं निकला था। पंजाब की सत्ता में लगातार दूसरी बार आकर अकाली दल इतिहास बनाएगा।

चुनाव के दौरान पार्टी के प्रचार अभियान का नेतृत्व करने वाले सुखबीर को उम्मीद है कि अकाली दल-भाजपा गठबंधन 75 से 80 सीटें जीतेगा। वर्ष 2007 के विधानसभा चुनाव में अकाली दल ने 48 सीटें जीती थीं।

अकाली दल की सहयोगी पार्टी भाजपा को भरोसा है कि चुनाव के नतीजें गठबंधन के पक्ष में आएंगे। राज्य में सरकार बनाने में भाजपा निर्णायक भूमिका निभा सकती है। पिछले विधानसभा चुनावों में पार्टी ने 19 सीटें जीती थीं।

वहीं, कांग्रेस नेताओं को उम्मीद है कि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में उसकी सरकार बनेगी। मंत्री बनने की इच्छा रखने वाले नेता और प्रमुख पदों पर नजर रखने वाले नौकरशाह एवं अधिकारी सिंह से मिल रहे हैं।

अमरिंदर सिंह ने कहा कि इस बार हम कम से कम 70 सीटें जीतेंगे। हम पंजाब को फिर से विकास के रास्ते पर लाएंगे। निवर्तमान विधानसभा में कांग्रेस के 44 विधायक हैं। दोनों पक्षों के दावे चाहे जो भी हैं, राज्य का राजनीतिक भविष्य बहुत कुछ पूर्व वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल के नेतृत्व वाले तीसरे मोर्चे पीपुल्स पार्टी आफ पंजाब (पीपीपी) को मिलने वाली सीटों पर निर्भर हो सकता है। ज्यादातर लोगों का मानना है कि पीपीपी अकाली दल को नुकसान पहुंचाएगी। मनप्रीत मुख्यमंत्री बादल के भतीजे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पंजाब में चुनाव नतीजों को लेकर अनिश्चितता बरकरार