DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अपराध की बढ़ती घटना को लेकर राजद का हंगामा

बिहार विधानसभा में मंगलवार को मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) ने राज्य में अपराध की बढ़ती घटनाओं को लेकर हंगामा किया। विधानसभा में कार्यवाही शुरू होते ही प्रतिपक्ष के नेता सिद्दिकी ने राज्य में अपराध की बढ़ती घटनाओं को उठाने की कोशिश की लेकिन सभाध्यक्ष ने इसकी अनुमति नहीं दी।

प्रश्नकाल पूरा होने के बाद सभाध्यक्ष उदय नारायण चौधरी ने राजद के सम्राट चौधरी के कार्यस्थगन प्रस्ताव को नियमानुकूल नहीं बताते हुए इसे नामंजूर कर दिया। इस पर सिद्दिकी ने कहा कि कल पटना के बिक्रम इलाके में अपराधियों ने पंजाब नेशनल बैंक के प्रबंधक की गोली मारकर हत्या कर दी।

इसी तरह दिन दहाड़े शहर में लूट और हत्या की घटनाएं हो रही है जिससे राजधानी के लोग डरे हुए हैं। सिद्दिकी ने कहा कि यदि ऐसे मामलों पर भी सरकार और सदन संवदेनशील नहीं होगा तो आम लोगों की चिंता कौन करेगा। इस पर जल संसाधन मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि आसन ने जब इससे संबंधित कार्यस्थगन प्रस्ताव नामंजूर कर दिया है तब प्रतिपक्ष के नेता दूसरे माध्यम से उन्हीं बातों को उठा रहे है यह उचित नहीं है।

चौधरी ने कहा कि गृह विभाग की बजट मांग पर सदन में चर्चा होने वाली है और उसमें विपक्ष इन मुद्दों को उठा सकता है। इस पर सिद्दिकी ने कहा कि विषय यदि आवश्यक हो तो आसन कार्य स्थगन के प्रस्ताव को ध्यानाकर्षण में परिवर्तित कर सकता है।

सभाध्यक्ष ने प्रतिपक्ष के नेता की इस मांग पर गौर नहीं किया और शून्यकाल शुरू होने की घोषणा की। इसके बाद राजद के सदस्य सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए सदन के बीच में आ गए। शोरगुल के बीच ही सदस्यों ने शून्यकाल की सूचनाएं पढ़ी। इसी दौरान मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि सरकार न कोई बात छुपाना चाहती है और न ही किसी को बचाना चाहती है।

राजद के सदस्य इस मामले को दूसरे रूप में लाए तो सरकार पूरी संवदेनशीलता और जिम्मेवारी से उसका जवाब देने को तैयार है। चौधरी ने कहा कि जो घटनाएं हुई है वह निंदनीय है। सरकार मामले की जांच कर कार्रवाई करेगी लेकिन विपक्ष को यह बताना चाहिए कि जिस तरह से वह इस मामले को उठा रहा है क्या यह मामले को दबाने या आपराधियों को बचाने की कार्रवाई तो नहीं है।

इस पर सिद्दिकी ने कहा कि सरकार यदि इन मामलों पर गंभीर होती तो वह सबसे पहले यह घोषणा करती कि इस मामले पर सदन में सरकार का वक्तव्य कब होगा। इसका जवाब देते हुए मंत्री चौधरी ने कहा कि सरकार जल्दबाजी में कोई वक्तव्य सदन में नहीं देगी। इस पर सिद्दिकी ने कहा कि उनकी पार्टी जनता को बताना चाहती है कि सुशासन की खुल गई पोल चाहे जितना पीटो ढोल।

इसके बाद चौधरी ने घोषणा की कि सरकार इस मामले में चलते सत्र में ही बयान देगी। इसके बाद भी राजद सदस्यों का सदन के बीच से शोरगुल और नारेबाजी जारी रहा। इस पर सभाध्यक्ष ने कहा कि सदन के बीच से कही गई किसी बात को न तो कार्यवाही में शामिल किया जाएगा और न ही वह प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में ही जाएगी।

इस पर सिद्दिकी ने आपत्ति व्यक्त करते हुए कहा कि यदि आसन की ओर से इसी तरह के नियमन दिए जाते रहेंगे और विपक्ष की आवाज को दबाने की कोशिश की जाएगी तो उन्हें विवश होकर सदन के बीच में धरना पर बैठना पडे़गा। शोरगुल के बीच ही सभाध्यक्ष ने सभा की कार्यवाही भोजनावकाश के लिए स्थगित कर दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अपराध की बढ़ती घटना को लेकर राजद का हंगामा