DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

'राष्ट्रीय राजमार्गों पर बिहार की अनदेखी कर रहा है केंद्र'

बिहार सरकार ने मंगलवार को आरोप लगाया कि राज्य से गुजरने वाले राष्ट्रीय राजमार्गों के मामले में वर्तमान केंद्र सरकार राज्य की अनदेखी कर रही है और एनएच पर खर्च राज्य का 969 करोड़ रुपये वापस नहीं किया जा रहा है।

पथ निर्माण मंत्री (आरसीडी) नंद किशोर यादव ने मंगलवार को कहा कि राज्य सरकार ने 969 करोड़ रुपये की लागत से राज्य के राष्ट्रीय राजमार्गों (एनएच) की मरम्मत कराई, लेकिन केंद्र राज्य के संसाधन के इस पैसे को वापस नहीं कर रहा है। इसके अलावा समय समय पर मांगे जाने वाले पैसे भी केंद्र नहीं दे रहा है।

आरसीडी के वित्तीय वर्ष 2012-13 के बजट पर वक्तव्य रखते हुए यादव ने विधानसभा में कहा कि जब से बिहार में राजग की सरकार आयी है केंद्र ने एनएच की मरम्मत के लिए मांगे गये पैसों और योजनाओं के अनुरूप पैसा नहीं दिया है।

2005-06 के बाद से एनएच मरम्मत, निर्माण और रखरखाव में पैसा लगातार कम होता गया है। 2005-06 में बिहार को 144 करोड़, 2006-07 में 112 करोड़, 2007-08 में 174 करोड़, 2008-09 में 276 करोड़, 2009-10 में 201 करोड़, 2010-11 में 115 करोड़ और 2011-12 में मात्र पांच करोड़ रुपये का भुगतान किया गया, जबकि मांग अधिक की थी।

उन्होंने कहा कि राज्य में 3734 किलोमीटर लंबाई के राष्ट्रीय राजमार्ग है, लेकिन कई की हालत बहुत खराब है। इसका कारण है कि केंद्र उन पर पर्याप्त ध्यान नहीं दे रहा है। राष्ट्रीय राजमार्ग विकास योजना (एनएचडीपी) के विभिन्न चरणों में बिहार पर अधिक ध्यान नहीं दिया गया।

एनएचडीपी-6 में बिहार की उपेक्षा की गयी है। यही कारण है बिहार सरकार अपने संसाधन जुटाकर राज्यस्तरीय उच्चपथों को अच्छी गुणवत्ता के साथ बना रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:'राष्ट्रीय राजमार्गों पर बिहार की अनदेखी कर रहा है केंद्र'