DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गांधी सेतु के सुपर स्ट्रक्चर में होगा बदलाव!

महात्मा गांधी सेतु के सुपर स्ट्रक्चर में बदलाव होगा। उसे पूरी तरह हटाकर नया सुपर स्ट्रक्चर बनाया जा सकता है। केन्द्रीय सडक़ परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रलय के अधिकारियों के समक्ष भोवे कंसल्टेंसी ने यह प्रस्ताव पेश किया है।

गांधी सेतु के पुनर्स्थापना की जिम्मेवारी एनएचएआई को मिलने के बाद उसने गांधी सेतु का भविष्य तलाशने के लिए देश की महत्वपूर्ण एजेंसी ‘भोवे कंसल्टेंसी’ को पुनर्स्थापना और उसके बगल में एक अन्य सेतु के निर्माण की संभाव्यता तलाशने की जिम्मेवारी दी है। राजमार्ग मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक ‘भोवे कंसल्टेंसी’ ने अपनी संभाव्यता रिपोर्ट में सुपर स्ट्रक्चर के बदलाव की बात कही है।

इस प्रस्ताव को मंत्रालय की सहमति मिल जाती है तो वर्षो से परेशानी का सामना कर रहे राज्य के निवासियों को भारी राहत मिलेगी। दरअसल गांधी सेतु की नींव और स्ट्रक्चर में कोई गड़बड़ी नहीं है। सिर्फ सुपर स्ट्रक्चर (उपरी हिस्सा) में खराबी आने के कारण करीब दस वर्षो से टुकड़ों में मरम्मत कार्य चल रहा है।

खासकर 44 नम्बर स्पैन की हालत बदतर हो गई है। इसे बिना हटाये पश्चिमी लेन में पूरी तरह आवागमन संभव ही नहीं है। हालांकि नवम्बर में जापान की एजेंसी ‘जाइका’ ने भी महात्मा गांधी सेतु का निरीक्षण किया था। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकार (एनएचएआई) और पथ निर्माण विभाग के अधिकारियों के साथ सेतु पर ही उसके पुनस्र्थापन के लिए गंभीर मंत्रणा की।

पश्चिमी लेन के 44 नम्बर स्पैन की खराब हालत पर तो विस्तृत मंत्रणा की। जाइका के दो अधिकारी तकनीकी पहुलओं की गहनन अध्ययन के लिए अब तक हुए मरम्मत के सारे कागजात भी साथ ले गये।

भोवे कंसल्टेंसी भविष्य के बढ़ते यातायात दबाव को सुव्यवस्थित करने के लिए कच्ची दरगाह (एनएच-30)और विदुपुर (एनएच-103) के बीच नये सेतु के लिए स्थल तलाशने का भी अध्ययन कर रहा है। इसके भी रिपोर्ट शीघ्र मिलने की संभावना है। हालांकि पथ निर्माण विभाग के सचिव प्रत्यय अमृत ने कहा कि राज्य सरकार को इस तरह की कोई सूचना अब तक नहीं मिली है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गांधी सेतु के सुपर स्ट्रक्चर में होगा बदलाव!