DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दलितों, अल्पसंख्यकों और गरीबों की शिक्षा पर विशेष ध्यान

विधान परिषद में भोजनावकाश के बाद शुरू हुई कार्यवाही में शिक्षा विभाग के बजट पर वाद-विवाद हुआ। इस दौरान शिक्षा मंत्री ने कहा कि अल्पसंख्यकों, दलितों और गरीबों को शिक्षित करने पर सरकार विशेष रूप से ध्यान दे रही है।

उन्होंने कहा कि मौलाना मजरूल हक उर्दू-फारसी विश्वविद्यालय के लिए दानापुर में 25 एकड़ जमीन का अधिग्रहण हो गया है। पूरी तरह अधिकार मिलते ही भवन निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा।

इस वर्ष भवन का इतना निर्माण करवा दिया जाएगा कि विश्वविद्यालय को यहां स्थानांतरित किया जा सके। फिलहाल इसे अस्थायी रूप से चाणक्या लॉ विश्वविद्यालय के खाली पड़े कैम्पस में शिफ्ट किया जाएगा। लॉ विश्वविद्यालयों को इसके लिए पांच करोड़ रुपए उपलब्ध करा दिए गए हैं।

उन्होंने कहा कि ‘तालिमी मरकज’ कार्यक्रम के लिए केन्द्र सरकार ने सात हजार 40 करोड़ के बजट में महज 1700 करोड़ रुपए ही दिए हैं। इससे यह कार्यक्रम प्रभावित हो रहा है। दलित और गरीब बच्चों के लिए चलने वाले ‘उत्थान केन्द्र’ योजना के लिए केन्द्र सरकार ने रुपए का आवंटन बंद कर दिया है।

इस कार्यक्रम को जारी रखने के लिए राज्य सरकार ने 184 करोड़ रुपए दिया है। 19 हजार से ज्यादा उत्थान केन्द्रों के कर्मियों को वित्त विभाग से अनुमोदन प्राप्त होने के बाद जल्द ही बकाए मानदेय का भुगतान कर दिया जाएगा।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि पूर्व सरकार ने शिक्षक बहाली में प्रशिक्षित शिक्षकों की अनिवार्यता खत्म कर दी थी। इससे सूबे के 60 ट्रेनिंग कॉलेज बंद हो गए। फिर से प्रयास करके सरकार ने 23-24 संस्थान खोले हैं।

निजी संस्थानों के अलावा अंगीभूत कॉलेजों में बीएड की पढ़ाई शुरू करने की पहल हो गई है। करीब 40 कॉलेजों ने पाठ्यक्रम शुरू करने का प्रस्ताव भेजा है। एनसीटी की टीम जल्द ही सरकारी कॉलेजों का निरीक्षण करने आ रही है।

शिक्षा मंत्री ने विधान परिषद में मिथिला विश्वविद्यालय और नरगौना पैलेस की ऐतिहासिक भवनों की देखरेख के लिए पांच करोड़ रुपए आवंटित करने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक धरोहर के रूप में इन भवनों को संरक्षित करने के लिए सरकार हर तरह का प्रयास करेगी।

परिषद में सदस्य विनोद कुमार चौधरी ने एलएन मिथिला विश्वविद्यालय के भवन को संरक्षित करने का मामला उठाया था। इस वाद-विवाद में वीरकेश्वर सिंह, तनवीर हसन, केदारनाथ पांडे, वासुदेव सिंह, विनोद कुमार चौधरी, रुदन राय और संजीव सिंह ने हिस्सा लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दलितों, अल्पसंख्यकों और गरीबों की शिक्षा पर विशेष ध्यान