DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डीएमसीएच में दवा और मशीन खरीद की होगी जांच

बिहार के बडे़ सरकारी चिकित्सा महाविद्यालय और अस्पताल में से एक दरभंगा के डीएमसीएच में बीते पांच वर्ष के दौरान दवा, चिकित्सा मशीन खरीद और उन्नयन कार्य में कथित हेरफेर की एक माह के भीतर स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव से जांच होगी।

दरभंगा निर्वाचन क्षेत्र के भाजपा सदस्य संजय सरावगी ने ध्यानाकर्षण के दौरान दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (डीएमसीएच) में वित्तीय वर्ष 2007-08 से लेकर पांच वर्ष की अवधि में दवा, चिकित्सकीय उपकरण और अस्पताल तथा कॉलेज के उन्नयन कार्य में भारी हेरफेर का आरोप लगाते हुए विधानसभा की समिति या मुख्य सचिव से जांच कराने की मांग की।

स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि भाजपा सदस्य के आरोपों की जांच स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव की अध्यक्षता वाली एक समिति करेगी। इसमें स्थानीय विधायक को भी शामिल किया जाएगा। जांच के दौरान डीएमसीएच के प्रिंसिपल, अस्पताल अधीक्षक और दवा के स्टोर कीपर को शामिल नहीं किया जाएगा।

सरावगी ने आरोप लगाया कि डीएमसीएच चिकित्सकीय उपकरणों का कब्रिस्तान है। मशीनें खरीदकर रखी जाती है लेकिन गरीब मरीजों के इलाज में उपयोग नहीं किया जाता। उन्होंने इस मामले में जांच तक डीएमसीएच दरभंगा के वर्तमान प्रिंसिपल, अधीक्षक और स्टोरकीपर का पटना मुख्यालय में स्थानांतरण करने की मांग की।

भाजपा विधायक सरावगी के उत्तेजित स्वर में मामले को उठाने पर उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने हस्तक्षेप करते हुए कहा कि इस मामले में जांचकर दूध का दूध पानी का पानी किया जाएगा। किसी को बचाने का प्रश्न नहीं उठता।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डीएमसीएच में दवा और मशीन खरीद की होगी जांच