DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

PPP ने आईबी के खुफिया कोष से निकाले 27 करोड़

पाकिस्तान की पीपीपी नीत सरकार ने पंजाब प्रांत में सत्तारूढ़ पीएमएल एन के खिलाफ अपने राजनीतिक एजेंडा को आगे बढ़ाने के लिये कथित तौर पर खुफिया ब्यूरो के गोपनीय कोष से 27 करोड़ रुपये निकाले थे।
  
एक्सप्रेस ट्रिब्यून ने खुफिया सूत्रों के हवाले से बताया कि पीपीपी ने कथित तौर पर पंजाब में सांसदों की वफादारी हासिल करने के लिये इस धन का इस्तेमाल किया और 2009 में प्रांत में राज्यपाल शासन तक और उस अवधि के दौरान इसका सर्वाधिक इस्तेमाल हुआ।
   
पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) हालांकि पंजाब में खुद की सरकार बनाने की कोशिश कर रही थी लेकिन पीएमएल क्यू की मुख्यमंत्री के पद की मांग सहित कुछ कारणों से यह नहीं हो सका। दैनिक को उपलब्ध गोपनीय दस्तावेज दर्शाते हैं कि इतनी बडी रकम कभी इतने कम समय के अंतराल में खुफिया कोष से नहीं निकाली गई।
  
नियम के अनुसार खुफिया कोष का इस्तेमाल राष्ट्रीय हित को सुरक्षित रखने के लिये संवेदनशील सूचना हासिल करने के लिये किया जा सकता है और इसके धन को आपातकाल अथवा किसी अन्य घटना सहित किसी भी मकसद के लिये इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।
   
रिपोर्ट के अनुसार कोष से निकाली गई हर राशि किसी खास कार्य और औचित्य के लिए निकाली जानी चाहिये और संघीय सरकार द्वारा निकाली गई इतनी बड़ी राशि के साथ ऐसा नहीं किया गया। खुफिया ब्यूरो प्रधानमंत्री की निगरानी में काम करता है और एजेंसी का प्रमुख सीधे प्रधानमंत्री के प्रति जिम्मेदार होता है।
  
धन निकाले जाने का मुद्दा पहली बार तब प्रकाश में आया जब शोएब सुद्दले को खुफिया ब्यूरो का प्रमुख बनाया गया। सन 2008 में पदभार संभालने के बाद शोएब ने इसके बारे में प्रधानमंत्री युसूफ रजा गिलानी को सूचना दी जो शुरू में 92 करोड रुपये समझी गई लेकिन जांच के बाद पता लगा कि 27 करोड रुपये निकाले गये।
 
दैनिक ने अपने सूत्रों के हवाले से कहा कि गिलानी ने खामोश रहना बेहतर समझा। पंजाब में पीपीपी के महासचिव शमीउल्ला खान ने कहा कि शायद धन व्यक्तियों ने निकाला और उसे पार्टी के कोष में हस्तांतरित नहीं किया गया। उनका तर्क है कि अगर खुफिया कोष का इस्तेमाल उस मकसद से किया गया होता जैसा सूत्र बता रहे हैं तो पीपीपी पंजाब में सरकार बना लेती।
  
खान ने कहा कि जिस किसी राजनीतिज्ञ ने भी आईबी अथवा आईएसआई के कोष से धन निकाला हो चाहे वह किसी भी पार्टी का हो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होनी चाहिये। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:PPP ने आईबी के खुफिया कोष से निकाले 27 करोड़