DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

26/11 मामले के मजिस्ट्रेट के बयान दर्ज किए जाएंगे

पाकिस्तान से न्यायिक आयोग के पहुंचने से पहले यहां की एक अदालत ने एक मजिस्ट्रेट सहित चार लोगों को समन जारी कर 26/11 के आतंकवादी हमले के सिलसिले में बयान दर्ज कराने को कहा है।

दक्षिण मुंबई के इस्प्लेनेड की अदालत ने चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट आरवी सावंत वाघुले और अपराध शाखा के अधिकारी रमेश महाले को समन जारी किया है। वाघुले ने एकमात्र जीवित पाकिस्तानी आतंकवादी अजमल कसाब का बयान दर्ज किया था जबकि महाले 26 नवंबर 2008 को मुंबई पर हुए आतंकवादी हमले के जांच अधिकारी थे। हमले में 160 से ज्यादा लोग मारे गए थे।

जेजे अस्पताल और नायर अस्पताल के दो चिकित्सकों को भी अदालत में उपस्थित होकर बयान दर्ज कराने के लिए कहा गया है। उन्होंने मारे गए आतंकवादियों और हमले के शिकार नौ लोगों का पोस्टमार्टम किया था। पाकिस्तान से 12 सदस्यीय न्यायिक आयोग कल दिल्ली पहुंचेगा और 15 मार्च को मुंबई जाएगा।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि वाघुले और महाले को 16 मार्च को समन किया गया है वहीं चिकित्सकों के बयान 17 मार्च को दर्ज किए जाएंगे। कसाब के खिलाफ सुनवाई में महाराष्ट्र सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले विशेष लोक अभियोजक उज्ज्वल निकम को आयोग के सहयोग के लिए तैनात किया गया है जो इस्प्लेनेड अदालत में स्वयं गवाहों से पूछताछ करेगा।

महाराष्ट्र पुलिस के मुताबिक आयोग में रक्षा विभाग के वकील ख्वाजा हरीस, रिया अकरम चौधरी, फखार हयात, राजा एहसान उल्हाखान और इसाम बिन हरीस, विशेष लोक अभियोजक चौधरी मोहम्मद अजहर और चौधरी अली तथा अदालत के अधिकारी आजाद खान शामिल हैं।

चार गवाहों के बयान को पाकिस्तान में आतंकवाद निरोधक अदालत में साक्ष्य के तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा जहां लश्कर ए तैयबा के जकीउर रहमान लखवी और छह अन्य संदिग्धों के खिलाफ मामला चल रहा है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:26/11 मामले के मजिस्ट्रेट के बयान दर्ज किए जाएंगे